Wednesday, February 28, 2018

सिलचर शहर में एक बार फिर- कछार की राजधानी

सिलचर के सोनाई रोड पर आईजोल से आई सूमो छोड़ने के बाद पैदल आगे निकल पड़ा। मुझे एक रात इस शहर में रुकने के बाद सुबह अगरतला की ट्रेन पकड़नी है। सामने सड़क पर एक भवन के ऊपर किंगफिशर का विमान नजर आता है। नजदीक से देखा तो वह विमान नहीं बल्कि उसकी प्रतिकृति है। 
नेताजी सुभाष चौराहा से आगे रंगीरखारी चौराहा, एनएस रोड पर चलता हुआ नाजिर पटट्टी पहुंचा हूं। यह सिलचर शहर का मुख्य बाजार है। सिलचर गुवाहाटी के बाद असम का दूसरा प्रमुख शहर है। यों समझिए कि यह कछार प्रदेश की राजधानी है। असम विश्वविद्यालय, एनआईटी सिलचर की मौजूदगी इसे शिक्षा का बड़ा केंद्र बनाते हैं। पूरे कछार के अलावा मणिपुर, मिजोरम का प्रवेश द्वार होने के कारण यह इस इलाके का बड़ा शॉपिंग हब भी बन चुका है। रेलवे का बड़ा स्टेशन होने के साथ ही सिलचर वायु मार्ग से भी कोलकाता, गुवाहाटी जैसे शहरों से जुड़ा हुआ है।
पैदल चलते हुए मुझे सामने बिग बाजार नजर आ रहा है। जिस शहर में बिग बाजार पहुंच गया तो समझो वह बड़ा शहर तो हो ही गया। मुझे एक सस्ते होटल की तलाश है। बिग बाजार के सामने होटल अंजलि में एक कमरा मिला डबल बेड 350 रुपये में। कमरा संतोषजनक है। टीवी लगा हुआ है। कमरे का आकार भी बड़ा है। शाम को होटल के मैनेजर बापी से परिचय हुआ और खूब बातें हुईं। वे घूमने का शौक रखते हैं तो मुझसे कई सलाह ली। मैंने भी उनसे सिलचर के बारे में थोड़ी जानकारी ली।
इसके बाद घूमने निकल पड़ा। सिलचर में  बाजार कोलकाता का शोरुम दिखाई दिया। वहां वाजिब डिस्काउंट मिलता हुआ दिखा तो एक ट्रैक सूट और एक डफल बैग खरीद डाला।
सिलचर के बाजार में मिठाई की दुकान पर एक बार फिर पाटी सपटा का आनंद लिया। इससे पहले पाटी सपटा मालदा टाउन में खाया था। तो आपको पता ही होगा कि बाहर से देखने में मिनी मसाला डोसा की तरह होता है पर इसमें खीर भरी रहती है। दोपहर का खाना मां होटल में खाया। 60 रुपये मे शाकाहारी थाली। भरपेट खाइए। होटल काफी साफ सुथरा है। नाम भी बड़ा भावों से भरा है मां होटल। आगे बढ़ने पर खुदीराम बोस की प्रतिमा नजर आती है। उसके बाद सिलचर  का ऐतिहासिक कछार क्लब की इमारत। मैं पैदल चलते चलते कैपिटल प्वाइंट पहुंच गया हूं।

यह वही कैपिटल प्वाइंट है जहां से इंफाल और आईजोल के लिए टैक्सियां बुक होती हैं। शाम को यहां स्ट्रीट फूड की बहार है। पिछली बार की सिलचर यात्रा में मैं कैपिटल प्वाइंट पर ही नटराज होटल में ठहरा था। ये ईंटखोला बाजार का इलाका है। शाम को वापसी में सिलचर के कुछ और बाजार का मुआयना करता हूं। यहां आपको दुकानों में मणिपुरी परिधान और मिजोरम के परिधान मिल जाएंगे।
रात का खाने के लिए निकलता हूं तो हमारे होटल के स्टाफ राना घर में खाने की सलाह देते हैं। यह एक नया होटल खुला है। इसका डेकोर काफी अच्छा है। खाने का स्वाद भी काफी बेहतर है। 60 रुपये की थाली में उन्होंने खीर भी परोसी।  
-        विद्युत प्रकाश मौर्य
(SILCHAR, MAA HOTEL, ANJALI HOTEL, RANA GHAR ) 
सिलचर के बाजार में पाटी सपटा। 

No comments:

Post a Comment