Tuesday, March 8, 2016

एक मराठी शादी में....बारी बरसी खटन गया सी...

फरवरी 16 साल 2016 की सुबह हमारा पुणे जाना हुआ था शादी में शामिल होने के लिए। शादी किसकी। हमारी साली साहिबा की। वे रेडियोलॉजिस्ट हैं। पटना की हैं पर मुंबई में रहते हुए उन्होंने अपने लिए मराठी दुल्हा ढूंढा। तो शादी की सारी रश्में मराठी रीति रिवाज से होनी थी।

सोलह फरवरी की शाम बंद गार्डन रोड पर रॉयल कनाट बोट क्लब की शाम गुलजार हुई सगाई की रस्म और संगीत से। रायल कनाट बोट क्लब पुणे का बड़ा ही पुराना और प्रतिष्ठित क्लब है। ये 1890 का स्थापित है जैसा कि इसका साइन बोर्ड बताता है। यह सेना के लोगों की खास पंसद में से है। यूं कहें कि ये पुणे का ये खास हैपनिंग सेंटर है। 16 फरवरी का दिन मेरे लिए भी खास है क्योंकि 1996 में इसी दिन यानी 20 साल पहले हमने अपनी पहली नौकरी शुरू की थी।

खैर सगाई की रस्म, रिंग सेरमनी गुजर गया। पर इस दिन खास आकर्षण था संगीत जिसे वर पक्ष के लोगों ने काफी मेहनत से तैयार किया था। इसमें धुले शहर के तमाम डाक्टर दंपतियों ने हिंदी फिल्म के गीतों पर लाइव परफारमेंस किया।

गीतों भरी कहानी थी वो जिसमें बूढ़े डाक्टर दंपति संगीत की धुन पर थिरकते हुए जिंदगी जिंदादिली का नाम है...जैसा कुछ संदेश दे रहे थे। कहानी का तानाबाना शानदार बुना गया था। कोरियोग्राफी भी दमदार थी। इतने अच्छे परफारमेंस के बाद कुछ खाना पीना। महाराष्ट्र के शादी की खास बात होती है कि यहां खाने पीने पर फिजूलखर्ची नहीं होती। भोज के मीनू में चयनित आइटम होते हैं। पूरे देश के लोगों को मराठी लोगों से इस मायने में सीख लेनी चाहिए। उत्तर भारत की तरह चाट पकौड़े गोलगप्पे के स्टाल नहीं।

17 फरवरी की सुबह शादी का मुहुर्त था। सो बारात सात बजे लगनी शुरू हो गई। होटल सन एंड सैंड में । बारात में सभी पंजाबी धुन में थिरक रहे थे। ढोल मास्टर गा रहे थे –


बारी बरसी खटन गया सी...खटके ले आंदे ताले
और अब डांस करेंगे दूल्हे के साले।

बारी बरसी खटन गया सी...खटके ले आंदे बालियां
और अब डांस करेंगी दूल्हे के सालियां।

फिर - बारी बरसी खटन गया सी...खटके ले आंदे चूल्हा
और अब डांस करेंगा शादी वाला दूल्हा....

उनके निर्देश के हिसाब से सभी डांस करने को तैयार होते जा रहे थे।

बारी बरसी खटन गया सी...खटके ले आंदे तारे
और अब डांस करेंगे सारे के सारे....   और सारे लोग नाच उठे।

शादी में महिला पुरोहित - सुबह 9 बजे शादी की की रस्में आरंभ हो गई। शादी में पुरोहित की भूमिका निभा रही थीं एक महिला। पुणे शहर में कई महिलाएं शादी से कर्मकांड कराती हैं। हमारी शादी की पुरोहित उच्च कोटि की विद्वान नजर आ रही थीं। वे शादी के सारे मंत्रों का अर्थ, हिंदी और मराठी में भी समझा रही थीं। साथ ही वे शादी के मंत्रों और संकल्पों को आधुनिक संदर्भों में भी समझाने की कोशिश कर रही थीं।
पुणे में शादी रस्म करातीं महिला पुरोहित ...
बाद में पता चला कि पुणे में कई महिला पुरोहित हैं जो शादी और दूसरे संस्कार संपन्न कराती हैं। हालांकि मैं इन महिला पुरोहित का नाम नहीं जान सका, पर वे विदुषी महिला लग रही थीं।

लगभग दो घंटे में शादी संपन्न हो गई। इस शादी में कई रोचक रस्में थी जो यहीं पर देखने को मिलीं। शादी खत्म हो जाने के बाद कन्या का भाई जाकर दुल्हे का कान खींचता है और कान में चुपके से कुछ कहता है। ( सारी उम्र मेरी बहन का ख्याल रखना ) दोपहर के लंच से पहले शादी की सारी रस्मों का समापन हो चुका था। अब कोई काम नहीं रह गया था किसी के पास। यानी सुबह से शुरू हुई शादी दोपहर से पहले खत्म हुई।

इसके बाद क्या। अब सारे लोगों ने लंच किया उसके बाद शुरू हो गई विदाई की तैयारी। पर इस विदाई में तो कुछ भी रोना धोना नहीं हुआ। अब भला पढ़ी लिखी दुल्हन भी अपने मियां के साथ जाते वक्त रोती है क्या। नहीं ना।

-vidyutp@gmail.com

No comments:

Post a Comment