Sunday, February 21, 2016

शिलांग में लें उत्तर भारतीय खाने का स्वाद

वैसे तो मेघालय पूर्वोत्तर का वैसा राज्य है जहां ईसाई संस्कृति हावी है। पर यहां आपको उत्तर भारतीय भोजन का स्वाद लेने में कोई परेशानी नहीं आएगी। खास तौस पर शिलांग शहर में कई ऐसे भोजनालय और मिठाइयों की दुकानें है जहां पर उत्तर भारतीय भोजन का स्वाद ले सकते हैं। 

यहां शाकाहारी लोगों को भी नागालैंड या मिजोरम की तरह कोई परेशानी नहीं पेश आती है। शहर के व्यस्त बाजार में आप छोले भठूरे, पूरी सब्जी, रसगुल्ले, समोसे, खीरकदम आदि का स्वाद ले सकते हैं। यहां तक की स्ट्रीट फूड्स भी आजमा सकते हैं।  

सबसे पहले बाद पुलिस बाजार में स्थित दिल्ली मिष्टान भंडार की करते हैं। दिल्ली स्वीट्स शिलांग की मिठाइयों की सबसे लोकप्रिय दुकानों में से एक है। इतनी लोकप्रिय की यहां बैठने की जगह के लिए इंतजार करना पड़ जाता है। 

यहां की मिठाइयों का स्वाद बिल्कुल यूपी या दिल्ली जैसा है और दरें भी काफी वाजिब हैं। दिल्ली स्वीट्स के नाम पर मत जाएं यहां मिठाइयों के अलावा समोसा, चाट, पूड़ी, मासाला डोसा आदि सब कुछ मिल जाता है। बैठ कर खाने के अलावा टेक अवे यानी लेकर जाने का भी इंतजाम है। काउंटर पर हमेशा भीड़ रहती है। आपको आर्डर देकर इंतजार करना पड़ सकता है। दिल्ली स्वीट्स के चाट और समोसे का स्वाद लाजवाब है। साफ सफाई भी काफी बेहतर है। इन सबके बीच दरे भी वाजिब हैं। 30 रुपये की चाट की प्लेट का स्वाद याद रहता है।

लोकप्रिय है शिलांग का मारवाडी बासा – 

जैसा की नाम से ही जाहिर है मारवाड़ी बासा खाने के लिए बेहतरीन जगह है। यहां पर खाने की शाकाहारी थाली मिलती है। संभवतः यहां थाली 80 रुपये की है। हालांकि मैं जिस दिन पहुंचा मारवाड़ी बासा का भोजनालय बंद था। 

इसके प्रोपराइटर बाहर खड़े थे उन्होंने ही मुझे शाकाहारी थाली के लिए हरिओम भोजनालय जाने की सलाह दी। वैसे मारवाड़ी बासा शिलांग का आवासीय होटल भी है। यहां सस्ते आवासीय कमरे उपलब्ध हैं पर यहां के कमरे अटैच टायलेट वाले नहीं हैं। फिर भी शिलांग में रहने के लिए यह प्राइम लोकेशन पर सस्ती और अच्छी जगह है।

हरिओम होटल में दोपहर का खाना  मैं खाने की थाली की तलाश में हरिओम होटल पहुंचता हूं। यह क्विंटन रोड पर स्थित है। यह भोजनालय के साथ एक आवासीय होटल भी है। पर यहां खाने में थाली नहीं मिलती, आप अपनी पसंद के अलग अलग व्यंजन मंगा सकते हैं। मैं दोपहर में यहां खाने पहुंचा तो मैंने रोटी, दाल और मिक्स वेजीटेबल आर्डर किया. पर मैंने देखा काफी स्थानीय लोग यहां आकर दोपहर में भी पराठे का आर्डर दे रहे थे। शायद उनका पराठा लोगों को पसंद आता है। नीचे भोजनालय है तो उपर आवासीय होटल है। यहां पर भी सस्ते कमरे उपलब्ध हैं, पर कमरे अटैच टायलेट वाले नहीं हैं। पर हिंदी प्रदेश से आने वाले लोगो को ये होटल काफी पसंद है।

यूपी स्वीट एंड मीट – मुख्य बाजार में मुझे यूपी स्वीट एंड मीट दिखाई देता है। यहां पर कई किस्म की मिठाइयां उपलब्ध हैं। इसके साथ ही समोसे और पूड़ी आदि का भी आर्डर दे सकते हैं। यहां भी स्थानीय निवासी बड़ी संख्या में खाने पीने पहुंचते हैं। शिलांग के अन्य हिस्सों में भी उत्तर भारतीय खाने पीने के स्टाल और दुकाने हैं। 


लेडी हैदरी पार्क के बाहर आलू मूरी का स्वाद - 

शिलांग के लेडी हैदरी पार्क पास मिले एक युवक जो बिहार के वैशाली जिले के रहने वाले हैं। उनका घर लालगंज के पास गांव में है। मेरा बचपन वैशाली जिले मे गुजरा है इसलिए उनसे बातें करके भावनात्मक जुड़ाव हो जाता है। यहां पर सालों से आलू मूरी बेचते हैं।

मूरी मतलब चावल का दाना यानी फरही। वे बताते हैं कि आलू उबालते हैं रोज रात को। उसमें मसाले मिलाते हैं। इसके बाद दिन भर मूरी (दाना) के साथ मिलाकर बेचते हैं। दस रुपये की एक प्लेट।  उनकी आलू मूरी के दीवाने स्थानीय खासी लोग भी इस कदर हैं कि पैक कराकर घर भी ले जाते हैं। वे साफ सफाई का काफी ख्याल रखते हैं। पैकिंग के लिए अच्छा सा डिब्बा भी देते हैं।

आलू मूरी का उनका ये काराबोर सीखने लायक है कि आप किसी नई जगह में जाकर भी अपने राज्य के खानपान की दुकानें खोल सकते हैं और वहां के लोगों में पंरपरा से हटकर स्वाद को लोकप्रिय बना सकते हैं। 
शिलांग में लेडी हैदरी पार्क के बाहर आलू मूरी बेचते बिहार के वैशाली जिले के युवक। 

वैसे पुलिस बाजार के चौराहे पर सुबह सुबह अंडा, आमलेट, पूड़ी, पराठे बेचने वालों की भरमार रहती है। इनमें से ज्यादातर दुकानदार बिहार के हैं।इन दुकानदारों में महिलाएं भी हैं जो सुबह सुबह फर्राटे से भोजपुरी बोलती हुई सुनाई देती हैं। मेघालय में रहते हुए वे भी जमकर तांबूल खाने लगी हैं, पर अपनी जुबान को नहीं भूली हैं। हालांकि यहां पर खाने के स्टाल पर साफ सफाई की थोड़ी कमी दिखाई देती है। बाकी आप जमकर खाइए पर अपने पेट का ख्याल रखिए। खाना तो आपको ही है मेरा काम तो सिर्फ बताना  है। 
 -vidyutp@gmail.com

( SHILLONG, FOOD, MARWARI BASA, HARI OM HOTEL) 


No comments:

Post a Comment