Friday, October 30, 2015

पांच मुख वाले बजरंगबली - पंचवटी आंजनेय मंदिर

देश में हनुमान जी के कई अदभुत मंदिरों में से एक है पंचवटी हनुमान मंदिर। यह मंदिर पुडुचेरी से नौ किलोमीटर दूर पंजवडी गांव में स्थित है। इस मंदिर में हनुमान जी की खड़ी प्रतिमा है जिसके पांच मुख हैं। इसलिए इसे पंच मुखी हनुमान मंदिर या आंजनेय मंदिर भी कहते हैं।
देश में इस तरह की विलक्षण हनुमान प्रतिमा कहीं और देखने को नहीं मिलती। काले पत्थर से बनी हनुमान जी की प्रतिमा 36 फीट ऊंची और 8 फीच चौड़ी है। दावा है कि पूरे विश्व ऐसी कोई हनुमान प्रतिमा नहीं है।


मंदिर की मुख्य प्रतिमा में हनुमान के पांच रूप है। मुख्य रूप हनुमान का है। इसके अलावा नरसिम्हा, वराह, गरुड़ और अग्रीव के रूप में यहां हनुमान के दर्शन होते हैं। प्रतिमा में मुख्य मुख के दाएं और बाएं दो मुख हैं। एक मुख नीचे है जबकि  एक मुख पीछे है। जिसका दर्शन मंदिर के पृष्ठ भाग में जाने से संभव है। मुख्य मंदिर के दाहिने तरफ गणपति का मंदिर है जबकि बाईं तरफ रामदरबार सुशोभित है।
मंदिर में भक्तों को प्रसाद के रूप में दही चावल ( कर्ड राइस) मिलता है। मंदिर का प्रबंधन पंचमुखी श्री जयमूर्ति सेवा ट्रस्ट देखता है। मंदिर के निर्माण के लिए सनातन आयंगर ने जमीन दान में दी थी। मंदिर डेढ़ एकड़ भूमि में बना है। मंदिर में प्राण प्रतिष्ठा 11 जून 2003 को की गई।

मंदिर में शनिवार को श्रद्धालुओं की ज्यादा भीड़ होती है। कई लोग अपनी मन्नत पूरी करने के लिए पांच शनिवार लगातार मंदिर में साधना करने आते हैं।

कैसे पहुंचे  पंचवटी हनुमान मंदिर पांडिचेरी शहर से 12 किलोमीटर आगे टिंडिवनम रोड पर स्थित है। मंदिर विलुपरम जिले में पड़ता है। पांडिचेरी से नेशनल हाईवे नंबर 66 पर कुछ दूर आगे बढ़ने पर टोल नाका आता है। टोल पार करने के बाद बायीं तरफ मुड़ने वाली सड़क पर कुछ किलोमीटर चलने के बाद पंजावड़ी गांव आता है। यहां दाहिनी तरफ वाली सड़क ऑरविल इंटरनेशनल सिटी के लिए चली जाती है। आप अपने पुडुचेरी प्रवास के दौरान इस मंदिर में दर्शन के लिए आ सकते हैं। इसके अलावा कुडुलूर, टिंडिवनम और चिदंबरम से पंचवटी मंदिर पहुंचा जा सकता है।  



कहां ठहरें - पंचवटी में रहने को कोई इंतजाम नहीं है। आप पुडुचेरी में ठहर कर मंदिर घूमने आ सकते हैं। मंदिर के रास्ते में आपको पुडुचेरी और तमिलनाडु के ग्रामीण परिवेश के दर्शन होंगे।हनुमान जी के मंदिर के आसपास छोटा सा बाजार है।   
http://www.panchavatee.org/

( PUDUCHERRY, HANUMAN TEMPLE, PANCHVATI ) 



No comments:

Post a Comment