Wednesday, October 28, 2015

थोड़ा थोड़ा जन्नत सा एहसास - पाराडाइज बीच


पुडुचेरी का यह बीच शहर से 8 किलोमीटर दूर कुड्डलोर मुख्य मार्ग पर स्थित है। इस समुद्र तट के एक ओर छोटी खाड़ी है। यहां आमतौर पर नाव द्वारा ही जाया जा सकता है। नाव पर जाते समय नीले समंदर के पानी में डॉल्फिन के करतब देखना एक सुखद अनुभव हो सकता है। यहां का वातावरण देखकर इसके नाम की सार्थकता का अहसास होता है कि वास्तव में यह स्वर्ग के समान है। हम दोपहर में पुडुचेरी पहुंचे थे।

 4 बजे शाम को अपने होटल श्री साईराम के मैनेजर से पूछा कि हम पैराडाइज बीच जाना चाहते हैं। उन्होंने कहा तुरंत जाइए नहीं तो बीच बंद हो जाएगा। होटल के चौराहे से कुडुलुर रोड  पर जाने वाली बस लें। बस से बोट हाउस पर उतर जाएं। हमने ऐसा ही किया। निजी बस का किराया था 5 रुपये प्रति सवारी। बोट हाउस पर पहले प्रवेश का टिकट था 5 रुपये बच्चे का 10 रुपये बड़ों का। यहां कार बाइक पार्किंग के लिए पैसे लगते हैं हालांकि पूरे पुडुचेरी  में पार्किंग फ्री है।  



इसके बाद शुरू होता है स्टीमर का मनभावन सफर। इसका किराया 200 रुपये आने और जाने का है। बच्चे के लिए 100 रुपये। दो तरह को मोटराइज्ड स्टीमर चलते हैं पैराडाइज बीच तक जाने के लिए। एक छोटी मोटराइज्ड नाव जिसमें 20 लोगों के बैठने की जगह होती है। दूसरी बड़ी दोमंजिला नाव जिसमें 60 लोग तक सफर कर सकते हैं। सेवा का संचालन पुडुचेरी टूरिज्म की ओर से किया जाता है। इसके अलावा आप यहां स्पीड बोट से भी सफर का आनंद उठा सकते हैं। उसके लिए थोड़ी ज्यादा जेब ढीली करनी पड़ेगी।

 बोट पर सवार होने से पहले सबके लिए लाइफ जैकेट पहनाना काफी जरूरी है। इसका मतलब की समंदर के इस रोमांचक सफर में थोड़ा खतरा भी है। लहरें उछाल मारती रहती हैं इसलिए बोट संचालक सबको अपनी सीट पर बैठे रहने को कहते हैं। पर लोग हैं कि वे हर पल के सफर को कैमरे में कैद कर लेना चाहते हैं। नीले समुद्र की बलखाती लहरें तटों पर हरियाली का आवरण। देखकर दिल खुश हो जाता है। जैसे सचमुच आप स्वर्ग का आनंद लेने जा रहे हों। पर पाराडाइज बीच का आकार ज्यादा बड़ा नहीं है।



पैराडाइज बीच पर खाने पीने की कुछ सीमित दुकाने हैं। विकल्प भी सीमित हैं। मछलियों की कुछ वेराइटी। सी फूड और समोसा चाइनीज स्टफिंग के साथ। हमने 50 रुपये में चार नन्हें समोसे का आर्डर दिया। इसके बाद समंदर के साथ थोड़ी सी अटखेलियां। यहां घुड़सवारी का भी आनंद लिया जा सकता है। पैराडाइज  बीच पर आप समंदर में नहा भी सकते हैं। हालांकि यहां तट पर सुरक्षा गार्ड तैनात रहते हैं जो आपको सावधान करते रहते हैं।

 पैराडाइज बीच पर पहुंच कर पता चला कि यहां आने का स्थल से होकर भी रास्ता है। आप मेनलैंड से तीन किलोमीटर पैदल चलकर भी यहां पहुंच सकते हैं। बीच पर शाम को 6 बजे के बाद रहने की इजाजत नहीं है। लिहाजा साढ़े पांच बजे के बाद ही वार्निंग की घंटी  बजने लगती है। वापसी में हमें दो मंजिला स्टीमर मिला। इसकी छत से नजारे देखने का भी अपना ही मजा रहा। पैराडाइज बीच पर रविवार और छुट्टियों के दिन भीड़ बढ़ जाती है। हम जिस दिन पहुंचे 18 अक्तूबर संयोग से रविवार था, इसलिए तट पर रौनक थी। छुट्टी वाले दिन बोट सेवा तेजी से चलती है। बाकी के दिन वे सवारी भरने का इंतजार करते हैं। - - vidyutp@gmail.com


PUDUCHERRY- PARADISE BEACH
-                                      ( PUDUCHERRY- PARADISE BEACH, SEA FOOD  ) 







No comments:

Post a Comment