Friday, May 8, 2015

लेण्याद्रि की बौद्ध गुफाएं और गणपति

पुणे नासिक रोड पर जुन्नर कस्बे के पास ऐतिहासिक लेण्याद्रि की गुफाएं हैं। यहां कुल 321 खड़ी सीढ़ियां चढ़कर गुफाओं तक पहुंचना पड़ता है। यह भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण की ओर से संरक्षित स्मारक है। यहां प्रवेश के लिए 5 रुपये का टिकट खरीदना पड़ता है। दूर से ही लेण्याद्रि की गुफाएं अति सुंदर दिखाई देती हैं। 

आसपास के हरे भरे खेतों में अंगूर की खेती होती दिखाई देती है। लेण्याद्रि गांव कुकड़ी नदी के किनारे स्थित है। लेण्याद्रि में कुल 28 गुफाएं हैं। कहा जाता है इन गुफाएं में बौद्ध भिक्षु रहा करते थे। हालांकि इन गुफाओं में से सिर्फ दो में ही जाने का बेहतर रास्ता है। एक गुफा में स्तूप बना है। जबकि दूसरी गुफा में गणेश जी का मंदिर है। ये गुफाएं काफी हद तक देखने में एलोरा की गुफाओं जैसी ही लगती है।

लेण्याद्रि के गुफाओं तक पहुंचने के लिए कुल 321 सीढ़ियां चढ़नी पड़ती है। ये चढ़ाई थोड़ी मुश्किल है। बुजुर्ग लोगों के लिए यहां भी पालकी का इंतजाम है।


रास्ते में सीढ़ियों पर बड़ी संख्या में बंदर हैं जो आते जाते लोगों के सामान की तलाशी लेते हैं। अगर आप सावधान नहीं हैं तो आपका पर्स लेकर फरार हो सकते हैं। अगर आपके पास खाने का कोई सामान है तो बिना लाग लपेट के उन्हें सौंप दें। वर्ना खैर नहीं।

 लेण्याद्रि के गिरिजित्मज गणपति। 
अष्टविनायक का मंदिर – लेण्याद्रि के गणेश जी की गिनती महाराष्ट्र के अष्ट विनायक गणपति में होती है। इन गणपति को गिरिजित्मज नाम से पुकारा जाता है। गिरिजात्मज यानी गिरिजा ( पार्वती) के पुत्र। कहा जाता है इन्ही पहाड़ों पर कभी पार्वती जी निवास करती थीं। यहीं कुंड में वे स्नान कर रही थीं। तभी शिव जी पार्वती जी से मिलने पहुंचे। बाल गणेश ने उनका रास्ता रोका और गुस्से शिवजी ने उनका सिर काट दिया। बाद गणेश जी की सच्चाई पता चलने पर उन्हे हाथी का सिर लगाया गया। यहां श्रद्धालुओं को वह कुंड दिखाया जाता है जहां पार्वती जी स्नान करती थीं।

 इस स्थान का नाम जीर्णपुर या लेखन पर्वत भी मिलता है। यहां गणेश का देव स्थान गुफाओं ( लेणी) के बीच है इसलिए इसका नाम लेण्याद्रि रखा गया। कहा जाता है गणेश जी को पुत्र के रूप में प्राप्त करने के लिए पार्वती ने 12 वर्षों तक कठोर तप किया था। इसके बाद भाद्रपद की चतुर्थी तिथि को गणेश जी पुत्र के रूप  प्रकट हुए। यह भी कहा जाता है कि लेण्याद्रि की आठवीं गुफा में जो गणेश जी की प्रतिमा है वह स्वंभू प्रकट हुई है। ये गुफा 53 फीट लंबी और 51 फीट चौड़ी है

लेण्याद्रि - 321 सीढ़ियां नहीं चढ़ सकते तो पालकी है ना...
यहां गणेश जी ने 15 साल तक बाल लीला की थी। यहां उन्होने कई दैत्यों का संहार भी किया था। जिस गुफा में गणेश प्रतिमा है वहां कोई प्रसाद नहीं चढ़ता। यहां पहुंच कर आप गुफा के अंदर बैठकर शांति से ध्यान कर सकते हैं। मंदिर में गणेश प्रतिमा दक्षिण मुखी है। मंदिर की गुफा में सूर्योदय से सूर्यास्त तक उजाला रहता है। लेणयाद्रि की गुफा के नीचे कुछ दुकाने हैं जहां आपको चाय नास्ता आदि मिल जाता है। श्रद्धालुओं के लिए पेयजल और शौचालय आदि का भी प्रबंध है। गाड़ियों के लिए पार्किंग का भी इंतजाम है।

कैसे पहुंचे - जुन्नर तहसील से लेण्याद्रि की दूरी 7 किलोमीटर है। पुणे शहर से कुल दूरी 120 किलोमीटर है। पुणे से नारायण गांव होते हुए लेण्याद्रि पहुंचा जा सकता है। लेण्याद्रि जाने के क्रम में आप जुन्नर या फिर ओझर में रात्रि विश्राम कर सकते हैं। नासिक से दूरी 140 किलोमीटर है जबकि अहमदनगर से 100 किलोमीटर है।
http://www.ashtavinayak.in/girijatmak.html  

( LENYADRI, PUNE, MANCHAR, OJHAR GANPATI ) 

No comments:

Post a Comment