Tuesday, March 10, 2015

नानी दमन और मोटी दमन

गुजरात के वापी शहर के पास दमन केंद्र शासित प्रदेश है। कभी गोवा दमन और दीव मिलकर एक प्रदेश हुआ करते थे। पर गोवा को पूर्ण राज्य का दर्जा मिलने के बाद दमन और दीव अब केंद्र शासित प्रदेश हैं। हालांकि दमन और दीव के बीच 700 किलोमीटर की दूरी है, पर दोनों का प्रशासन एक ही है। देश भर के लोग दमन कहते हैं पर यहां के लोग लिखते हैं दमण। सरकारी अभिलेखों जमीन के कागजातों में भी लिखा जाता है दमण। दमण का फैलाव 72 वर्ग किलोमीटर में है। 2011 की जनगणना के मुताबिक दमन की आबादी 1.91 लाख है।

यह राज्य दमन गंगा नदी के मुहाने पर स्थित है। एक और रोचक तथ्य है कि दमन गंगा नदी दमन को नानी दमन और मोटी दमन नामक दो छोटे शहरों में बांट देती है। गुजराती में नानी मतलब छोटी और मोटी मतलब बड़ी। यानी नानी दमन का इलाका छोटा है जबकि मोटी दमन का दायरा बड़ा है। नानी दमन और मोटी दमन के बीच दमनगंगा नदी पर राजीव गांधी सेतु बना है। इस पुल का उदघाटन करने तत्कालीन प्रधानमंत्री राजीव गांधी आने वाले थे, पर उनके समय नहीं देने पर जनता ने एक दिन खुद इस पुल को खोल दिया। हालांकि पुल का नाम राजीव जी के नाम पर ही रखा गया। इस पुल के बगल में दमनगंगा नदी पर पुराना पुल भी दिखाई देता है जिसपर अगस्त 2003 में बड़ा हादसा हो गया था जिसमें 24 स्कूली बच्चों की मौत हो गई थी। 
दमन का सोमनाथ जंक्शन। 

1523 में पहली बार पुर्तगालियों ने दमन में कदम रखे थे। एक पुर्गगाली व्यापारी डियागो डि मेलो का जहाज भटककर इस क्षेत्र में आ गया था। तूफान में जहाज फंस जाने पर उसने पहले समझा कि उसकी जान तो अब गई, पर उसने कुछ समय बाद खुद को दमन के तट पर सुरक्षित पाया। इसके बाद साढे चार सौ सालों तक दमन पर पुर्तगालियों का कब्जा रहा। दिसंबर 1961 में दमन भारत का हिस्सा बना। दमन की आजादी के लिए हुई लड़ाई में 4 भारतीयों की शहादत हुई 14 घायल हुए वहीं इस लड़ाई में 10 पुर्तगाली मारे गए और 2 घायल हुए।
दमन देश में अपने पांच सितारा रिजार्ट्स, होटल, रेस्टोरेंट, नाइट क्लब, जिम, स्पा सेंटर और समुद्र तट के लिए जाना जाता है। हालांकि अपनी प्राकृतिक सुन्दरता के कारण दमन दुनिया भर से सैलानियों को आकर्षित करता है। दमन को विशेष रूप से अपने पुर्तगाली उपनिवेशी वास्तुकला, आकर्षक समुद्र तटों और गिरिजाघरों के लिए जाना जाता है।


दमन पर्यटन का सांस्कृतिक स्वरूप जनजातीय, शहरी, यूरोपीय और भारतीय परम्पराओं को मिश्रण है। इस जिले की बहुत ही समृद्ध विरासत है। यहाँ के निवासी नृत्य और संगीत को विशेष महत्व देते हैं। इस जगह की शांत सुन्दरता के साथ-साथ आप दमन के समुद्र तटों पर गुनगुनी धूप का आनंद भी ले सकते हैं। प्रकृति के सुंदर नजारों के अलावा आप दमन के विभिन्न प्रकार के लज़ीज समुद्री पकवानों का भी आनन्द ले सकते हैं।

कब पहुंचे - पूरे साल भर यहां का मौसम सुहावना रहता है। यहां कभी भी आया जा सकता है। यहां न्यूनतम 11 डिग्री सेल्सियस और अधिकतम 39 डिग्री सेल्सियस के बीच रहता है। गर्मियों के दौरान भी दमन में शाम को ठंडी हवाएं चलती हैं। हालांकि दमन की यात्रा के लिए सर्वश्रेष्ठ समय सितम्बर की शुरुआत से मई के अन्त के बीच का समय है।

क्या देखें – अगर आप समंदर के किनारे समय देना चाहते हैं तो तो दमन में जंपोर समुद्र तट काफी लोकप्रिय है। इसके अलावा देवका समुद्र तट है जहां एक पंक्ति में कई सारे होटल हैं। यहां आप लजीज खाने का आनंद उठा सकते हैं। दमन में आप बॉम ज़ीसस गिरिजाघर,  वैभव वॉटर वर्ल्ड और सेन्ट जेरोम का किला आदि देख सकते हैं। दमन का मुख्य किले में सरकारी दफ्तर चलते हैं।

No comments:

Post a Comment