Monday, March 23, 2015

एनएच 8 पर सूरत से बड़ौदा वाया गोल्डेन ब्रिज

कोसांबा जंक्शन से मुझे बड़ौदा जाना था। मैंने आगे की यात्रा ट्रेन के बजाय बस से करने की सोची। क्योंकि इस मार्ग पर मैं ट्रेन से तो कई बार आवाजाही कर चुका था। कोसांबा में लोगों ने बताया कि भरुच की तरफ जाने वाली गाड़ियां हाईवे से मिलेंगी। कोसांबा से आटो रिक्शा में बैठकर 5 किलोमीटर दूर बाइपास तक पहुंचा। पर बाइपास पर कोई बस स्टाप नहीं था। 

नेशनल हाईवे नंबर 8 अहमदाबाद से मुंबई के बीच छह लेन का बन चुका है। पर इस फोर लेन हाईवे पर कोई भी बस वाला हाथ देने पर भी रोक नहीं रहा था। फिर लोगों ने सलाह दी की ट्रक से भी आगे जाया जा सकता है। मेरे साथ दो और सहयात्री आ गए। हमें देख एक छोटा ट्रक ( टेंपो) रुका। हम उस खाली टेंपो में सवार हो गए। टेंपो में खड़े होकर एनएच आठ पर अंकलेश्वर की ओर सफर। हाईवे का विहंगम नजारा दिखाई दे रहा है। खड़े होकर सफर करते हुए हाईवे के दोनों तरफ विशाल ढाबे दिखाई दे रहे हैं जिसमें आवासीय होने की भी जानकारी है। सीएनजी गैस के पंप, पेट्रोल पंप की कतार है। दिन हो या रात हाईवे गुलजार रहता है वाहनों से।


कोसांबा से आगे बढ़ते ही नहर पार करने के बाद गुजरात गैस सीएनजी पंप के दूसरी तरफ महुवेज गांव में मुझे विशाल चाकलेट फैक्ट्र नजर आती है। इसमें सेल्स आउटलेट भी बना है। यह शमीन (schmitten) चाकलेट की फैक्ट्री है। स्विटजरलैंड का जाना माना चाकलेट ब्रांड जो अब गुजरात में भी बनने लगा है। भारत में प्रियंका चोपड़ा इसकी ब्रांड एंबेस्डर हैं। सूरत की राजहंस न्यूट्रामिंस ( देसाई- जैन समूह) इन चाकलेट्स का निर्माण करता है। हालांकि मैं चाकलेट लेने के लिए उतर नहीं सका। अंकलेश्वर बाजार में टेंपो वाले ने हमें उतार दिया। किराया लिया 10 रुपये यानी बस से कम।
 भरुच अंकलेश्वर के बीच नर्मदा नदी पर बना ऐतिहासिक गोल्डेन ब्रिज। 

अंकलेश्वर गुजरात का बड़ा औद्योगिक और प्रदूषित शहर है। यहां से हमें भरूच के लिए मारूति ओमनी मिली। जो शेयरिंग में 15 रुपये प्रति सवारी की दर से आगे बढ़ी। भरूच शहर से बाहर निकलने पर नर्मदा नदी दिखाई देने लगती है। थोड़ी देर बाद ही हम ऐतिहासिक गोल्डेन ब्रिज पर थे। ये पुल 1881 का बना हुआ है। पुल बनाने की शुरूआत 1887 में हुई। इस पुल के बनने से पहले गुजरात का मुंबई से संपर्क सिर्फ नाव से ही संभव था। शानदार लोहे का पुल जिसे सुनहले रंग से रंग दिया गया है अब गोल्डेन ब्रिज कहलाता है। 

गोल्डन ब्रिज देश के ऐतिहासिक पुलों में शुमार है। तब इस पुल के निर्माण में 45.65 लाख की लागात आई थी। पुल ने कई बाढ़, भूकंप और संकट झेले हैं पर आज भी सही सलामत है। गोल्डेन ब्रिज अंकलेश्वर से भरुच के बीच लोगों के दैनिक परिवहन का प्रमुख साधन है। पुल पर आजकल भारी वाहनों की आवाजाही पर रोक है। गोल्डेन ब्रिज के ठीक बगल में रेलवे का पुल है। एनएच आठ पर काफी दूर जाकर नर्मदा पर नया पुल बन गया है। गोल्डेन ब्रिज पार करते ही भरूच शहर और रेलवे स्टेशन आ गया। यहां नर्मदा नदी के तट पर एक गुरुद्वारा भी है।
भरुच बाइपास का बस स्टैंड। 

भरुच शहर और आसपास के औद्योगिक क्षेत्रों के विकास में कांग्रेस नेता अहमद पटेल के बहुत बड़ा योगदान है। अहमद पटेल भरुच से तीन बार लोकसभा का चुनाव जीत चुके हैं। यहां से पहला चुनाव उन्होंने 1977 में जनता लहर के दौरान कांग्रेस उम्मीदवार के तौर पर जीता था। भरुच में चीनी मिलें, उद्योग और रेलवे के विकास के लिए यहां के लोग पटेल को याद करते हैं।

भरूच से बड़ौदा का सफर भी मैंने सडक मार्ग से करने की सोची। शहर से फिर बाईपास आटो में बैठकर आया। बाईपास में बस स्टैंड भी है और मारूति वैन वाले भी बड़ौदा की तरफ जाते हैं। वैन वाले 60 रुपये लिए और सवारी पूरी होने पर चल पड़ा एनएच 8 पर बड़ौदा की ओर। रास्ते में करजन, आलमगीर जैसे पड़ाव आते हैं। बड़ौदा शहर के बाहर से एनएच 8 गुजर जाता है। मैं टैक्सी से अजवा बाइपास पर उतर जाता हूं। अजवा से बड़ौदा जंक्शल के लिए आटो रिक्शा। गुजरात के खूबसूसरत और सांस्कृतिक शहर बड़ौदा या वडोदरा की बातें अगली कड़ी में...


 



No comments:

Post a Comment