Thursday, January 1, 2015

पीपीपी मोड में चलती है पुलगांव- आर्वी नैरो गेज

वर्धा जिले में 34 किलोमीटर का नेटवर्क

नागपुर से 110 किलोमीटर आगे पुलगांव से आर्वी के बीच 34 किलोमीटर का नैरोगेज मार्ग है। पुलगांव वर्धा जिले में आता है। वर्धा नदी के किनारे बसे शहर में दो बड़े कॉटन मिल हैं। इस मार्ग पर सिर्फ एक जोड़ी ट्रेन रोज चलाई जाती है। 52143 सुबह 8.30 बजे पुलगांव से चलती है। 1997 में इस मार्ग पर डीजल लोकोमोटिव लगाया जा चुका है। जेडडीएम4 सीरीज के लोको अब पैसेंजर ट्रेन को खींचते हैं। पर पुलगांव के यार्ड में जेडपी सीरीज के कुछ स्टीम लोको आराम फरमाते हुए देखे जा सकते हैं।


ये रेलवे लाइन 1917 में आरंभ हुआ था। आर्वी भी वर्धा जिले का छोटा सा शहर है जिसकी आबादी एक लाख के आसपास है। ये शांत शहर संतों की धरती के तौर पर जाना जाता है। आजकल इस ट्रेन में सिर्फ तीन कोच लगाए जाते हैं। पुलगांव आर्वी रेल मार्ग पर रास्ते में आठ स्टेशन हैं। पर रास्ते के किसी भी स्टेशन पर कोई स्टाफ नहीं होता। सिर्फ स्टेशन के बोर्ड नजर आते हैं।

चलती ट्रेन में ही मिलता है टिकट
इस नैरो गेज रेल में हर स्टेशन पर कोई टिकट घर नहीं होता। चलती ट्रेन में गार्ड के केबिन में ही टिकट उपलब्ध होता है। पर कोई बेटिकट चलता दिखाई नहीं देता। ज्यादातर लोग टिकट खरीदकर ही चलते हैं। ये नजारा काफी हद तक कोलकाता के ट्राम जैसा दिखाई देता है। हालांकि पुलगांव और आर्वी के बीच रेलवे लाइन के समांतर सड़क मार्ग भी है। पर सुबह शाम चलने वाली ट्रेन से काफी दैनिक यात्री सफर करते हैं। नैरो गेज रेल 25 से 30 किलोमीटर की गति से शानदार ट्रैक पर दौड़ती है।

पुलगांव आर्वी रेल का संचालन सेंट्रलप्रोविंस रेलवे कंपनी लिमिटेड द्वारा किया जाता है। इस कंपनी की स्थापना 1910 में हुई थी। आजकल देश में शायद ये एकमात्र पैसेंजर रेल नेटवर्क होगी जो पब्लिक प्राइवेट पार्टनशिप पर चलाई जा रही है। समझौते के मुताबिक कुल आय का 45 फीसदी भारतीय रेलवे और 55 फीसदी आय कंपनी के खाते में जाती है। हालांकि शेयर बाजार की रिपोर्ट के मुताबिक कंपनी को इस रेल नेटवर्क से लाभ नहीं हो रहा है। मार्च 2014 के रिपोर्ट में कंपनी घाटे में थी।

मार्ग के रेलवे स्टेशन - पुलगांव, सोरटा, विरुल, रोहना टाउन, धनोरी, पारगोथान, पचगांव, खूबगांव और आर्वी।

 -vidyutp@gmail.com
(PULGAON,  AARVI , NARROW,  GAUGE,  MAHARASHTRA , WARDHA RIVER, PPP MODE ) 

No comments:

Post a Comment