Monday, January 19, 2015

छतीसगढ़ यानी धान का कटोरा

रायपुर के गुरुघासीदास संग्रहालय के पार्क में कलाकृति
सन 2000 में मध्य प्रदेश से अलग होकर छतीसगढ नया राज्य बना। पर मुझे छतीसगढ जिसे धान का कटोरा भी कहते हैं, वहां की धरती पर कदम रखने का मौका मिला जाकर 2015 में।
छतीसगढ़ हिन्दुस्तान के नक्शे में दिल की तरह है। 

अकूत वन संपदा और खनिज संपदा वाला ये ये राज्य मध्य प्रदेश, उत्तर प्रदेश, बिहार, झारखंड, ओडिशा, आंध्र प्रदेश और महाराष्ट्र से घिरा हुआ है।
दिल्ली से चलती है छतीसगढ संपर्क क्रांति एक्सप्रेस। इस ट्रेन का नंबर है 12824, निजामुद्दीन से खुलने का समय है शाम को 5.25 बजे। इसमें मैं जनवरी की ठंड के बीच हजरत निजामुद्दीन रेलवे स्टेशन से सवार हुआ। ट्रेन समय से ही चली पर कुहरे के कारण रास्ते में लेट होती चली गई। सहयात्रियों से बातें करता हुआ छत्तीसगढ के बारे में ज्ञान बढ़ा रहा था। 

रास्ते में मिला मध्य प्रदेश का सागर रेलवे स्टेशन. इसके नाम की अंगरेजी की बिगडी हुई स्पेलिंग को अब तक सुधारा नहीं गया है। हालांकि देश के तमाम शहरों के नामों की स्पेलिंग सुधार दी गई है। रेलवे स्टेशनों के नामों की स्पेलिंग भी सुधारी गई है। कभी हमारे बिहार के ऐतिहासिक शहर आरा की अंग्रेजी में स्पेलिंग ARRAH होती थी, पर अब उसकी स्पेलिंग ठीक करके ARA कर दी गई है। इसी तरह सागर की स्पेलिंग SAUGOR को ठीक करके SAGAR  किया जाना चाहिए।

सागर से आगे आता है कटनी मुडवारा। ये कटनी जंक्शन से एक किलोमीटर पहले का स्टेशन है। वास्तव में कटनी में कुल चार रेलवे स्टेशन हैं। सागर से शहडोल वाली लाइन पर कटनी मुरवारा पडता है। सतना कटनी जबलपुर लाइन पर पडता है कटनी जंक्शन रेलवे स्टेशन। वहीं नार्थ कटनी और साउथ कटनी स्टेशन भी हैं। कटनी से अब एक नई लाइन सिंगरौली जाती है। वैसे कटनी शहर बेहतरीन मार्बल के लिए जाना जाता है। मैं 1995 में एक बार कटनी आया था। तब अखबारों के जाने माने पत्र लेखक मिश्रीलाल जायसवाल से मिलने का सौभाग्य मिला था।


अब कटनी से छतीसगढ के लिए रास्ता कटता है। उमरिया, शहडोल के बाद अनूपपुर। मध्य प्रदेश का आखिरी जिला है अनूपपुर। वेंकटनगर के बाद शुरू हो जाता है छतीसगढ। पेंड्रा रोड राज्य का पहला बडा स्टेशन है। हालांकि दिल्ली से छतीसगढ़ जाने का दूसरा रास्ता नागपुर होकर भी है। इसमें नागपुर के बाद गोंदिया जंक्शन और उसके बाद छतीसगढ़ राज्य का पहला जिला आता है राजनांदगांव। अगर दुर्ग और रायपुर पहुंचने के लिहाज से देखें तो ये रास्ता निकट का है और अगर बिलासपुर के लिहाज से देखें तो ये कटनी शहडोल वाला रास्ता निकट का है।
-       विद्युत प्रकाश मौर्य 
  (KATNI JN, CG SAMPARK KRANTI EXPRESS ) 

छतीसगढ़ सरकार की अधिकृत वेबसाइट पर जाएं। 

No comments:

Post a Comment