Tuesday, December 30, 2014

चंबा का चुक - अरे इतना तीखा

साडे चिडिए दा चंबा वे बाबुल अस उड़ जाना... जैसे गीत में चंबा का नाम आता है। पर चंबा और भी कई चीजों के लिए जाना जाता है। अपने सर्द मौसम के साथ ही बड़े ही तीखे मिर्च के अचार के लिए चंबा की पहचान है।

चंबा का चुक। यानी इतना तीखा की खाते ही जान निकल जाए. आपने कई तरह की मिर्च खाई होगी. कुछ मिर्च इतनी तीखी होती है कि आप देर तक सी सी करते हैं. कई लोगों को मिर्च का भरवां अचार पसंद है. पर आप कभी हिमाचल के चंबा का बना चुक चख कर तो देखना। नानी न याद आ जाए तो कहना।
वास्तव में चुक एक तरह का अचार ही है जो मिर्च को कूट कर बनता है. इसमें लहसून. अदरक समेत कई दूसरे मसाले मिलाए जाते हैं. पर ये इतना तीखा कैसे हो जाता है. एक बूंद जीभ पर गया नहीं कि दिमाग झन्ना उठता है। 

चुक बनाने वाली चंबा की ममता शर्मा सवाल सुनकर हंसने लगती हैं। वास्तव में चंबा के चुक जैसा तीखा अचार हमने पूरे देश में कहीं नहीं खाया। इतना तीखा अचार बनाने में खर्च भी बहुत आता है। तभी 200 ग्राम के चुक की बोतल वे 130 रुपये  में बेचती हैं। देश भर में ग्रामीण विकास मंत्रालय की ओर से लगाए जाने वाले सरस मेले में उनके चुक की खूब मांग रहती है। दिल्ली के प्रगति मैदान में नवंबर में लगने वाले अंतरराष्ट्रीय व्यापार मेले में वे हर साल आती हैं।

ममता से मेरी मुलाकात श्रीनगर में हुई जब वे सैलाब में होटल रिट्ज में फंसी हुई थीं। तब वहां वे अपना स्टाक नहीं बेच सकीं। पर दो माह बाद वे प्रगति मैदान के व्यापार मेले में पहुंची। यहां पर उनका स्टाक की खूब मांग रही।

ममता हर्बल ढंग से तैयार राजमा, शहद  और बेसन भी तैयार करती हैं। पर उनकी पहचान चुक को लेकर ही है। आपने भरवां मिर्च का अचार तो खाया होगा, पर कभी मौका मिले तो ये चुक भी चख कर जरूर देखिए।

- विद्युत प्रकाश मौर्य vidyutp@gmail.com
( CHAMBA,  CHUK,  PICKLE RED CHILLY  )

No comments:

Post a Comment