Monday, April 7, 2014

निराले सौंदर्य से घिरा - बक्खाली समुद्र तट

पश्चिम बंगाल का बक्खाली समुद्र तट देश का ऐसा तटीय इलाका है जहां सैलानी कम आते हैं। इस इलाके का अभी कोवलम, गोवा, पुरी की तरह बाजारीकरण नहीं हुआ है। एकांत में समंदर से संवाद करना हो तो ये देश में आदर्श जगह हो सकती है।

बक्खाली द्वीप में दो छोटे शहर हैं बक्खाली और फ्रेजरगंज। दोनों के बीच दूरी 7 किलोमीटर की है। ये दोनों जुड़वा शहर हैं। 7 किलोमीटर का समुद्र तट रात में रोशनी से नहा उठता है तब इसकी सुंदरता और बढ़ जाती है। फ्रेजरगंज का नाम पश्चिम बंगाल के अंगरेज लेफ्टिनेंट गवर्नर सर एंड्रू फ्रेजर के नाम पर पड़ा है। वे 1903 से 1908 तक गवर्नर जनरल रहे। बक्खाली तट की खोज उन्होंने ही की थी। बिहार की राजधानी पटना का फ्रेजर रोड भी उनके नाम पर ही है। फ्रेजरगंज में क्रोकोडाइल ब्रिडिंग सेंटर बना है। यहां आसपास में जंबूद्वीप, हेनरी आईलैंड की सैर की जा सकती है। बक्खाली बर्ड वाचिंग के लिए आदर्श जगह है। साथ ही यहां विंडमिल के बीच सूर्योदय और सूर्यास्त का भी नजारा किया जा सकता है।


बक्खाली में दोपहर के दौरान तापमान बेहद गर्म हो जाता है। पारा 23 से 37 डिग्री  सेल्सियस तक चला जाता है। बक्खाली की सुंदरता इसकी तनहाई में ही निहित है। इस द्वीप पर सार्वजनिक परिवहन काफी सीमित है, लेकिन आप जाने के लिए वैन रिक्शा किराए पर ले सकते हैं। वैन से हेनरी द्वीप या वॉच टॉवर जैसे कई पर्यटन स्थलों तक पहुंचा जा सकता है। हेनरी द्वीप में कांकरूपाम, सुंदरी और अन्य वृक्षों की मौजूदगी में प्राकृतिक सौंदर्य का आनंद लिया जा सकता है। द्वीप के तटीय इलाके पर मैंग्रोव भी बहुतायत हैं। बक्खाली में नारियल पानी पीते हुए साइकिल से पैदल घूमते  हुए समंदर के सौंदर्य का आनंद लिया जा सकता है।  


कैसे पहुंचे - बक्खाली पहुंचने के लिए निकटम रेलवे स्टेशन नामखाना है जो कोलकाता से 125 किलोमीटर है। गंगा सागर जाने वाले यात्री काकद्वीप से नामखाना आकर बक्काली पहुंच सकते हैं। नामखाना से बक्खाली के वैन रिक्शा मिलता है। नामखाना से बक्खाली आने के लिए हतानिया दोनिया क्रीक को फेरी से पार करना पड़ता है। क्रीक को पार करने के लिए सुबह सात बजे से रात 11 बजे तक फेरी चलती है। इस वैन जीप समेत पार किया जा सकता है। क्रीक की चौड़ाई सौ मीटर से कुछ ज्यादा ही है। पर इस पर पुल नहीं बनाया जा सकता है। क्योंकि बंगाल से बांग्लादेश के बीच जहाज जाने का छोटा रास्ता है। कोलकाता के धर्मतल्ला से बक्खाली के लिए सीधी बस सेवा भी उपलब्ध है। हर 30 से 45 मिनट पर चलने वाली बस जोका, अलीपुर, डायमंड हार्बर, काकद्वीप होते हुए एन एच 117 से आती है। आप नामखाना तक सियालदह लोकल से भी आ सकते हैं।
कहां ठहरें – बक्खाली बस स्टैंड के पास कई होटल हैं, जहां ठिकाना बनाया जा सकता है। एक होटल वेस्ट बंगाल टूरिज्म का भी है। आप होटल अमरावती में ठहर सकते हैं जो यहां का पुराना होटल है। पता है- Amarabati Hotel National Highway 117, Bakkhali, (West Bengal) M- 097 32 619340
-  -----------------     विद्युत प्रकाश मौर्य

No comments:

Post a Comment