Sunday, April 20, 2014

नन्हकी शाह की लिट्टी – एक रुपये में पूरा स्वाद

एक रुपये में भला क्या मिलता है आजकल। पर ऐसा नहीं है एक रुपये का भी मोल है। एक रुपये में आती है पटना के नन्हकी शाह की स्वादिष्ट लिट्टी। पटना के मुसल्लहपुर हाट में लगने वाली नन्हकी शाह की लिट्टी की दुकान में सुबह से ही लिट्टी खरीदने वालों की लाइन लग जाती है। दस से 11 बजने तक तो सारी लिट्टी खत्म भी हो जाती है।

तेल में तली हुई लिट्टी एक रुपये की होने के कारण आकार में निश्चित तौर पर छोटी होती है। पर इसके अंदर मकुनी (मसाला) भरा होता है जो इसके स्वाद को बेहतर बनाता है। इस लिट्टी के साथ ग्राहकों को मिलती है चने की घुघनी। घुघनी फ्री में। खरीदने वाले कम से कम 5 रुपये की 5 लिट्टी खरीदते हैं और बड़े चाव से खाते हैं। अगर इस लिट्टी के साथ आप जलेबी भी ले लें तो खाने का स्वाद और भी बढ़ जाता है। मुसल्लहपुर हाट इलाके में नन्हकी शाह की लिट्टी इतनी प्रसिद्ध है कि न सिर्फ प्रतियोगिता परीक्षा की तैयारी करने वाले छात्र बल्कि आसपास के घरों के लोग भी इनकी लिट्टी मंगाकर खाते हैं।

 कुछ साल पहले नन्हकी शाह की लिट्टी तो महज 50 पैसे में बिकती थी। पर महंगाई के कारण दाम बढ़ाकर एक रुपया कर दिया है। हालांकि पटना और उत्तर बिहार के शहरों में तली हुई लिट्टी कम से कम तीन रुपये की मिलती है। पर उसमें भी नन्हकी शाह वाली बात कहां। वैसे तो बिहार लिट्टी के लिए प्रसिद्ध है। दक्षिण बिहार के शहरों में कोयले पर पकाई हुई लिट्टी बिकती है तो उत्तर बिहार में तली में लिट्टियां। दोनों का अपना अपना स्वाद है। ... तो अगली बार कभी पटना जाएं मुसल्लहपुर हाट में उनकी लिट्टी का स्वाद लेना न भूलें।

-    विद्युत प्रकाश मौर्य  

No comments:

Post a Comment