Tuesday, February 25, 2014

मन की इच्छा पूरी करती हैं मां मनसा देवी

मां मनसा देवी नौ देवियों में से एक हैं। यह 51 शक्तिपीठों में से भी एक है। कहा जाता है कि यहां मां का मस्तक गिरा था। मां का मंदिर चंडीगढ़ शहर के पास पंचकूला में है। मंदिर के आसपास का वातावरण बड़ा मनोरम है। इस मंदिर की व्यवस्था एक सरकारी ट्रस्ट देखता है। यह ट्रस्ट हरियाणा सरकार के अधीन है।


कैसे पहुंचे - आप चंडीगढ़ शहर से पंचकूला की ओर जाने वाली बसों से मनसा देवी पहुंच सकते हैं। मनसा देवी का मंदिर मनी माजरा की पहाड़ियों पर स्थित है। ये चंडीगढ़ रेलवे स्टेशन से भी काफी करीब है। चंडीगढ शहर और पंचकूला के किसी भी हिस्से से मनसा देवी आसानी से पहुंचा जा सकता है। चैत्र नवरात्र के समय यहां विशाल मेला लगता है।
मनसा देवी मंदिर का निर्माण 1811-1815 के बीच मनीमाजरा के राजा गोपाल सिंह ने कराया था। मंदिर परिसर में मुख्य मंदिर से 200 मीटर की दूरी पर पटियाला के महाराजा करम सिंह ने 1840 में एक और मंदिर बनवाया जिसे पटियाला मंदिर कहा जाता है। कहा जाता है कि एक बार महाराजा को देवी सपने में आईं। उनके आदेश पर ही महाराज ने यहां भव्य मंदिर बनवाया। मंदिर में मनसा देवी की प्रतिमा तीन सिर और पांच भुजाओं वाली है। मंदिर परिसर में चामुंडा और लक्ष्मीनारायण का मंदिर है। मंदिर के परिक्रमा में भी विभिन्न देवी देवताओं की मूर्तियां बनाई गई हैं।

मनसा देवी मंदिर में संस्थाओं की ओर से सालों भर भंडारा चलाया जाता है। मंदिर में श्रद्धालुओं के रहने के लिए निशुल्क आवास की सुविधा भी उपलब्ध है। इसके अलावा 200 रुपये प्रतिदिन पर सुविधायुक्त आवास भी उपलब्ध है। मंदिर प्रबंधन की ओर से श्रद्धालुओं के लिए चिकित्सालय तथा कई और सेवाएं भी संचालित की जाती हैं।


हरिद्वार में भी मनसा देवी मंदिर - मनसा देवी नाम का एक मंदिर हरिद्वार में भी है। हालांकि ये शक्तिपीठ में नहीं गिना जाता पर इस मंदिर की लोकप्रियता काफी है। हर की पैड़ी के पास से मनसा देवी के मंदिर के लिए रोपवे संचालित होता है। वैसे आप 20 मिनट की पैदल चढ़ाई करके भी हरिद्वार के मनसा देवी मंदिर में जा सकते हैं। 
-    विद्युत प्रकाश मौर्य
MANSA DEVI,  TEMPLE, HARYANA, SHAKTIPEETH)

No comments:

Post a Comment