Wednesday, January 15, 2014

मणिपुर की लोक कथाओं में संगाई

मणिपुर की लोक कथाओं में संगाई का बहुत ही सम्मानित स्थान है। एक कथा है - एक बार मणिपुर का राजकुमार जंगलों में शिकार करने गया। इस दौरान उसने एक संगाई को पकड़ लिया। इस सुंदर जानवर को उसने लाकर अपनी प्रेमिका को उपहार स्वरूप भेंट में दे दिया। इसके बाद राजकुमार को एक युद्ध के लिए बाहर जाना पड़ा। जब राजकुमार युद्ध से जीतकर लौट कर तो उसने पाया कि उसकी प्रेमिका का विवाह दूसरे राजा के संग हो गया था। शायद ये संगाई को गुलाम बनाने की परिणति थी। दुखी राजकुमार ने संगाई को आजाद कर दिया। इसलिए मणिपुर के लोग संगाई को कभी बंधनों में नहीं रखना चाहते।
मौसम के साथ बदलता है रंग – संगाई की एक खूबी ओर यह होती है कि यह मौसम के अनुसार अपना रंग बदलता है। सर्दियों में गहरा भूरा तथा गर्मियों में हल्का भूरा हो जाता है।
संगाई को भ्रु श्रंगी हिरण ( BROW ANTLERED DEER ) भी कहा जाता है। इसके सिंगों की बनावट ही इसके नामक को सार्थकता प्रदान करती है। इसके सिंग प्राथमिक छोर से अंतिम छोर तक एक प्रकार का शालीनतायुक्त घुमाव बनाते हैं। इसलिए इसे संगाई, धामिन या मणिपुरी हिरण कहा जाता है। संगाई दूर से दिखने पर साम्भर की तरह ही दिखता है। लेकिन इसका आकार संभार से छोटा होता है। एक व्यस्क संगाई की औसत ऊंचाई 120 सेंटीमीटर के आसपास होती है। इसकी गर्भावधि 239 से 256 दिनों तक होती है।
दिल्ली के नेशनल जूलोजिकल पार्क में अटखेलियां करते संगाई। फोटो - अनादि अनत। 
दिल्ली के चिड़ियाघर में संगाई - संगाई को बचाने के अभियान के तहत 1962 में संगाई के दो जोड़े दिल्ली के नेशनल जूलोजिकल पार्क में  लाए गए। दिल्ली के नेशनल जूलोजिटल पार्क में संगाई की ब्रिडिंग की शुरुआत की गई। इसमें अच्छी सफलता मिलती गई। मजे की बात है कि जितने संगाई हिरण मणिपुर के चिड़ियाघर में है उससे कहीं ज्यादा संख्या दिल्ली के चिड़ियाघर में हो गई है।

साल 2011-12 में दिल्ली के चिड़ियाघर में कुल 58 संगाई हिरण थे, जबकि इंफाल जू में इनकी संख्या सिर्फ 11 थी। 1973 के बाद अब तक दिल्ली का जू 75 संगाई दूसरे चिड़ियाघरों को भेज चुका है। अब दिल्ली जू में तो इसकी और ब्रिडिंग रोकनी पड़ी है। हालांकि 2013 में दिल्ली के चिड़ियाघर में 6 और नए संगाई पैदा हुए हैं। चूंकि संगाई ठंडे प्रदेश का जानवर है इसलिए दिल्ली में गर्मियों के मौसम में इसका खास ख्याल रखना पड़ता है।

-    विद्युत प्रकाश मौर्य - vidyutp@gmail.com
(SANGAI, DEER, MANIPUR, DELHI ZOO) 

No comments:

Post a Comment