Monday, September 9, 2013

कुरुक्षेत्र- यहां देखिए कान्हा के अनेक रूप

माखन चोर नंद किशोर मनमोहन घनश्याम रे
कितने तेरे रुप हैं कितने तेरे नाम रे
कान्हा के बहुत सारे रुप देखने हों तो कुरूक्षेत्र पहुंचिए। यहां महाभारत की लड़ाई हुई थी लेकिन कुरुक्षेत्र में बना श्रीकृष्ण संग्रहालय आपको कान्हा के कई रुपों से मिलवाता है। कुरुक्षेत्र का प्रमुख आकर्षण है श्रीकृष्ण संग्रहालय। 1991 में बना ये संग्रहालय अब भव्य रूप ले चुका है। तीन मंजिले संग्रहालय में महाभारत का मल्टीमीडिया स्वरूप देखा जा सकता है। संग्रहालय की उपर वाली मंजिल पर बने इस प्रदर्शनी में महाभारत की युद्ध भूमि का बड़ा ही विशाल स्वरूप दिखाई देता है। खास तौर पर ये बच्चों को काफी पसंद आता है।

श्रीकृष्ण संग्रहालय सालों भर खुला रहता है। यहां सातों दिन रविवार को भी जाया जा सकता है। प्रवेश का टिकट 30 रुपये का है। संग्रहालय के भवन के मुख्य भवन पर महाभारत के युद्ध में रथ पर सवार अर्जुन श्रीकृष्ण की तस्वीर है। संग्रहालय के अंदर श्रीकृष्ण को कई रूपों में देखा जा सकता है। 

देश के प्रमुख पेंटिंग शैली में श्रीकृष्ण की तस्वीरें यहां देखी जा सकती हैं। कांगड़ा शैली में, दक्षिण भारत के तंजौर शैली में तो मधुबनी पेटिंग में बाल गोपाल के चित्र यहां देखे जा सकते हैं। सिर्फ पेंटिंग, बल्कि मूर्तिकला, स्थापत्य कला में भी कान्हा के विविध रूप आप यहां देख सकते हैं। संग्रहालय में गीता गैलरी भी है। साथ ही धर्म का ज्ञान बढ़ाने मल्टीमीडिया में सवाल जवाब वाले रोचक कियोस्क लगाए गए हैं जो बच्चों को काफी आकर्षित करते हैं। यहां आप अभिन्यु का चक्रव्यूह भी देख सकते हैं जो काफी रोचक है। म्यूजिम के ब्लॉग पर जाएं- www.srikrishnamuseum.blogspot.in www.srikrishnamuseum.blogspot.in
म्यूजियम के परिसर में ही श्रीकृष्ण पैनोरमा बना है। यह वास्तव में साइंस सेंटर है जो सिर्फ बच्चों को बल्कि बड़ों को भी लुभाता है। यहां टेलीविजन का वर्चुअल स्टूडियो जैसी कई रोचक चीजें देखी जा सकती हैं। संग्रहालय के परिसर के बाहर विशाल पार्क भी है जहां कई तरह के रोचक खेल हैं।

-    विद्युत प्रकाश मौर्य    ( KURUKSHETRA, SRI KRISHNA, MUSSEUM) 

No comments:

Post a Comment