Tuesday, July 9, 2013

मुंबई से महाबलेश्वर की ओर वाया पूना

ऐतिहासिक क्षत्रपति शिवाजी टर्मिनस का बाहरी इलाका। 
हमें जुहू तट पर रात के नौ बज चुके थे। पूना की ट्रेन सीएसटी से रात 10.55 बजे थी। 51033 शिरडी फास्ट पैसेंजर आम तौर पर समय पर खुलती है। हमारी चिंता बढ़ गई। बस के गाइड ने सलाह दी। आप दादर से लोकल पकड़कर सीएसटी जाएं जल्दी पहुंच जाएंगे। सलाह सही रही। हम दौड़ भाग कर सीएसटी पहुंचे। स्टेशन से दौड़ते हुए होटल। होटल जाकर चेकआउट किया और अपनी पुणे वाली ट्रेन में ( 51033 शिरडी फास्ट पैसेंजर) अपनी आरक्षित सीट तक पहुंच गए। तब याद आया डिनर तो किया नहीं। खैर स्टेशन के रेस्टोरेंट में अच्छा खाना मिल गया। सहयात्री भी अच्छे थे। पुणे से पहले खंडाला, लोनावाला जैसे स्टेशन आए। लोनावाला सुंदर है पर रात में इसका नजारा नहीं कर सके। इसके बाद चिंचवाड, पिंपरी और शिवाजीनगर। शिवाजीनगर पुणे शहर का स्टेशन है। हमारी ट्रेन समय पर पुणे पहुंच गई। तकरीबन 4 बजे सुबह। यहां से हमारी बस सुबह 5.30 बजे थी महाबलेश्वर के लिए, जिसमें हमने अग्रिम आरक्षण करा रखा था। रेलवे स्टेशन के ठीक बगल में एक छोटा सा बस डिपो भी है, जहां से आसपास के प्रमुख शहरों के लिए बसें खुलती हैं। 
मुंबई पुणे मार्ग पर लोनावाला।
पुणे का मौसम मुंबई की तुलना में सुहाना है। तभी बड़ी संख्या में लोग पुणे में बसना या नौकरी करना पसंद करते हैं। पुणे रेलवे स्टेशन के बाहर स्टेशन से लगा हुआ एमएसआरटीसी का बस स्टैंड है। यहीं से हमारी बस बुकिंग थी महाबलेश्वर के लिए। सुबह साढ़े पांच बजकर 30 मिनट पर खुलने वाली थी। हम बस डिपो के प्रतीक्षालय में इंतजार करने लगे। पूछताछ वाले ने बताया कि बस डिपो के अंदर नहीं आएगी बल्कि बाहर से ही चली जाएगी। हमें चिंता थी कहीं बस छूट न जाए। उन्होंने कहा, बस का कंडक्टर आकर अंदर अवाज लगाएगा, आप ध्यान देना। इस बस का इंतजार करते कुछ यूपी के कुशीनगर के भाई मिल गए। ये लोग पंचगनी में होने वाले बामसेफ के राष्ट्रीय सम्मेलन में हिस्सा लेने जा रहे थे। बस नीयत समय पर आई। वाकई कंडक्टर महाबलेश्वर की सवारियां ढूढने आया। हमारे पास तो ईटिकट था। हम बस में सवार हुए। बस स्वारगेट डिपो में जाकर दस मिनट रूकी रही।

पुणे रेलवे स्टेशन के बाहर एक सुबह। 
पुणे से महाबलेश्वर तकरीबन 120 किलोमीटर है। तीन घंटे का सफर है। वैसे महाबलेश्वर का निकटतम रेलवे स्टेशन सतारा है। सतारा से महाबलेश्वर 60 किलोमीटर के करीब है। हमारी बस वाई, फिर पंचगनी होते हुए सुबह नौ बजे महाबलेश्वर पहुंची। 
वाई के बाद से बस पहाड़ की ऊंचाई पर चढ़ने लगती है। मौसम बदलने लगता है। पंचगनी पहुंचते ही मौसम सुहाना हो गया था। पंचगनी से महाबलेश्वर सिर्फ 17 किलोमीटर है।

-  ----------------------  विद्युत प्रकाश 
( (PUNE, MAHABALESHWAR, PANCHGANI, LONAWALA)

No comments:

Post a Comment