Tuesday, June 25, 2013

दीव -समंदर के संगीत के संग डिनर

होटल डीपी में लंच। 
दीव खाने पीने के लिए जाना जाता है। गुजरात में पूर्ण शराबबंदी लागू है। लिहाजा गुजरात के शराब पीने के शौकीन लोग दीव आना पसंद करते हैं। यहां शराब सस्ती भी है और अच्छी भी मिलती है। हालांकि दीव की सड़कों पर रात को शराब पीकर हरकत करते हुए लोग आपको नजर नहीं आएंगे। लिहाजा दीव परिवार के साथ घूमने वालों के लिए सुरक्षित है। शहर की कानून व्यवस्था चुस्त है। दीव पहुंचने पर हमने सबसे पहले मैंगो शेक का स्वाद लिया। गुजरात के केसर आम का मैंगो शेक।

दीव में मैंगो शेक का मजा
फोर्ट रोड पर शेक बनाने वाले अपने बनारस के भाई निकले। हर साल छह महीने दीव में आकर दुकान लगाते हैं। बाकी के छह माह गांव में गुजारते हैं। दोपहर का खाना हमने डीपी रेस्टोरेंट में खाया। 70 रुपये की लिमिटेड थाली। लेकिन खाना सुस्वादु और कई तरह की सब्जियों और छाछ के साथ। हालांकि हम जिस होटल में ठहरे थे, यानी होटल सम्राट और सीडाडे इसका भी अपना रेस्टोरेंट अच्छा है
लेकिन दीव का सबसे लोकप्रिय रेस्टोरेंट है अपना होटल। होटल आलीशान का साथी होटल अपना का रेस्टोरेंट मरीन ड्राइव पर है। हमें बैठने की जगह भी समंदर के तट पर छतरी के नीचे मिली। सुस्वादु गुजराती थाली और उसके साथ जगमगाते दीव का नजारा।
पार्श्व में सुनाई देता समंदर की लहरों का संगीत। इससे खाने का स्वाद और बढ़ जाता है। माधवी और वंश के लिए ये शाम यादगार रही। आसपास के टेबल पर गुजराती, मराठी, पंजाबी परिवार दीव की शाम का आनंद उठा रहे थे।

सालों भर सदाबहार मौसम - दीव का मौसम सालों भर सदाबहार रहता है। गर्मी के मौसम में भी दीव का अधिकतम तापमान 33 डिग्री से उपर नहीं जाता। लिहाजा छोटे से दीव का मौसम हमेशा खुशनुमा बना रहता है। खास तौर पर अगर आप दीव में दो चार दिन की छुट्टियां मनाना चाहते हों तो आपके लिए दीव अच्छा विकल्प हो सकता है।
होटल अपना में डिनर। 

शनिवार और रविवार को होटल महंगे - नए साल के अलावा दीव में हर शनिवार और रविवार को भीड़ ज्यादा होती है। इसलिए होटलों का किराया शनिवार और रविवार को अधिक होता है जबकि बाकी के पांच दिन कम। अगर को 1200 रुपये प्रतिदिन का होटल है तो वह शनिवार और रविवार को 2400 रुपये प्रतिदिन का हो जाता है। अगर दीव आने की योजना बनाएं तो होटल पहले से बुक करा लें तो अच्छा रहेगा।

-    - विद्युत प्रकाश मौर्य   
( (DIU, APNA HOTEL, MANGO SHAKE )

No comments:

Post a Comment