Sunday, July 14, 2013

तरह तरह का स्वाद है महाबलेश्वर में...जमकर खाएं पीएं

 महाबलेश्वर मुख्य बाजार में खाने पीने के दर्जनों विकल्प मौजूद हैं। अगर आप बाजार से दूर किसी रिजार्ट में रूके हैं तो आपके पास खाने के सीमित विकल्प होंगे। इसलिए बेहतर है कि बाजार के पास ही रहें। 

मुख्य बाजार में बस स्टैंड के सामने राज पुरोहित स्वीट्स में शुद्ध घी की जलेबी, बड़ा पाव, समोसा, कचौरी आदि का स्वाद लियाजा सकता है। यहां सब कुछ वाजिब दाम पर उपलब्ध है। बाकी सभी जगहों पर महंगाई का आलम है। वेजिटेबल मार्केट वाली गली में एक दुकान है जिसका बड़ा पाव और पकौड़े काफी अच्छे हैं। हमलोग जब तक महाबलेश्वर में रहे राज पुरोहित की दुकान में पहुंच कर कुछ न कुछ खाते पीते रहे। 


बस स्टैंड के पास अगर आप पेटपूजा करना चाहते हैं तो शिवसागर में थाली खा सकते हैं। मुंबई की तुलना में महाबलेश्वर में खाना पीना थोड़ा महंगा है। यहां की थालियों में सब्जियों की मात्रा न्यूनतम होती है। यानी की थाली उदार नहीं है। बस स्टैंड के पास शेरे पंजाब में पंजाबी थाली का आनंद लिया जा सकता है। शेरे पंजाब के बगल में ओनम रेस्टोरेंट में भी खाने का स्वाद ले सकते हैं। मुख्य बाजार में चलते हुए सबसे आखिर में पहुंचने पर आता है आराम रेस्टोरेंट। यहां मराठी, गुजराती भोजन उपलब्ध है। सुबह का नास्ता और साथ में दक्षिण भारतीय इडली और मसाला डोसा भी। वैसे आराम की मराठी थाली अच्छी है। 80 रुपये में 4 चपाती, तीन सब्जियां, दाल, चावल, पापड, छाछ और अचार भी। शहर के कई होटल ऊंची दुकान फीकी पकवान भी हैं। हमने दोपहर का खाना होटल गिरिराज में खाया। दुकानदार का व्यवहार मीठा पर खाना एकदम बेस्वाद और घटिया। महाबलेश्वर के तमाम होटलों में मांसाहारी भोजन भी उपलब्ध है।

अगर आप महाबलेश्वर में लगातार हैं तो खाना सोच समझकर अच्छे रेस्टोरेंट का चयन करके ही खाएं। हां खाने के बाद आप आइसक्रीम का स्वाद लें। रात नौ बजे के बाद भी महाबलेश्वर की सड़कों पर रौनक रहती है। यहां अलग अलग स्वाद के आइसक्रीम आजमा सकते हैं।


आप शहर की बहुत की पुरानी दुकान एलिस डेयरी एंड बेकरी भी जा सकते हैं। 1849 में स्थापित इस बेकरी में कई तरह की पेस्ट्रीज और कुकीज उपलब्ध है। वैसे महाबलेश्वर अलग अलग तरह की चिकीज और चना जोर गरम के स्वाद के लिए भी प्रसिद्ध है।

-  -----  विद्युत प्रकाश मौर्य

-    Hotel Prity Sangam, MBL, 02168- 260437, 261745 A (Anand) 
   ( MAHABALESHWAR, FOOD ) 

No comments:

Post a Comment