Friday, December 14, 2012

बगान, जंगली फूल और नीलगिरी का तेल


ऊटी का असली सौंदर्य बगान और जंगली फूल हैं। कन्नूर पहुंचने के बाद यूकिलिप्टस की खूशबू आपको मिलने लगेगी। पहाड़ियों और पौधे पर पैदा होने वाली नीली धुंध के कारण इसको नीला गिरी यानी नील गिरी ( ब्लू माउंटेन) के नाम से पुकारा जाता है। यहां मौसम सालों भर सदाबहार रहता है। यहां तापमान कभी 25 डिग्री से ऊपर नहीं जाता।
देश के ज्यादातर हिल स्टेशन अंग्रेजों ने ढूंढे हैं। आजादी के बाद कोई नया हिल स्टेशन नहीं ढूंढा गया। 1819 में कोयंबटूर के कलेक्टर जान सुलिवान ने ऊटी को ढूंढा। तो 1847 में ऊटी में बोटानिकल गार्डन की आधारशिला रखी गई। 

उपयोगी है नीलगिरी का तेल
पूरे ऊटी में और केरल के कई शहरों में आपको नीलगिरी के तेल की कई दुकाने देखने को मिलती हैं। आप यूकिलिप्टस का तेल (पारदर्शी रंग का) और नीलगिरी का तेल लाल रंग का कई अलग अलग वेराइटी मिल जाएगी। 

ऊटी के पास कोटागिरी में सुप्रसिद्ध नीलगिरी तैलम (यूक्लिप्टस का तेल) छोटी-छोटी झोपड़ियों में मौलिक ढंग से डिस्टिल्ड किए जाते हैं। नीलगिरी जिसे अंग्रेज़ी में यूकेलिप्टस कहते हैं मुख्य रूप से ऑस्ट्रेलिया और तस्मानिया में पाया जाने वाला पौधा है। इसके नीलगिरी की पत्तियां लंबी और नुकीली होती हैं जिनकी सतह पर गांठ पाई जाती है जिसमें तेल संचित रहता है। यूकेलिप्टस रोगाणुओं का नाश करता है और त्वचा में जल्दी समा कर लाभ पहुंचाता है। नीलगिरी की ताजा पत्तियों को तोड़कर इससे तेल बनाया जाता है जो विभिन्न रोगों के उपचार में काम आता है। इन पत्तियों से डिस्टीलेशन की प्रक्रिया द्वारा तेल निकालने का काम होता है। इस प्रक्रिया के बाद रंगहीन द्रव्य (तेल) प्राप्त होता है जिसमें किसी भी प्रकार का स्वाद नहीं होता।

कई रोगों में कारगर - नीलगिरी तेल का प्रयोग एक एंटीसेप्टिक और उत्तेजक औषधि के रूप में किया जाता है। यह हृदय गति को बढाने में मदद करता है। नीलगिरी का तेल जितना पुराना होता जाता है इसका असर और भी बढता जाता है। यह काफी हद तक मलेरिया रोग के उपचार में भी काम में आता है। गले में दर्द होने पर भी नीलगिरी के तेल का उपयोग किया जाता है। सिरदर्द, जोड़ों के दर्द और सभी तरह के दर्द इस तेल को शरीर पर लगाने से ख़त्म हो जाते हैं।
नीलगिरी तेल जैसे आयुर्वेदिक तेल कमर दर्द से बहुत जल्द राहत देते हैं। हलके-हलके हाथों से इन की मसाज कर आप तुरंत काम पर चलने को तैयार हो सकती है। मुंहासे उपचार में नीलगिरी तेल कारगर है। ऊटी से आप नीलिगरी तेल के अलावा लेमन ग्रास का तेल जैसे कई और तेल भी खरीद सकते हैं। आप बोटानिकल गार्डन के गेट के आसपास और चेरिंग क्रास के पास कई दुकानों से नीलगिरी का तेल खरीद सकते हैं।
-   -  विद्युत प्रकाश मौर्य
( GAULTHERIA OIL, NILGIRI OIL, EUCALYPTUS OIL, OOTY) 

-    यहां से मंगा सकते हैं -

- टी विजयन, द उटकमंड यूकिलिप्टस आयल रिफाइनरी, चेरिंग क्रास, ऊटी ( तमिलनाडु)
फोन -0423- 2442098,  -2443266 

- Venus oil Distillery, 87 Bank Road  OOTY- 1 ( Nilgiri) TN
Tel 0423 2444350 2442917

No comments:

Post a Comment