Tuesday, December 11, 2012

चलो चलें ऊटी यानी उटकमंड

यहां से शुरू होता है दक्षिण के इकलौते हिल स्टेशन का सफर।  
ऊटी या उटकमंड या उदगमंदलम को दक्षिण भारत के तमिलनाडु का प्रमुख हिल स्टेशन होने का सौभाग्य प्राप्त है। ऊंचाई की बात करें तो ये शिमला और दार्जिलिंग से भी थोड़ा ऊंचा है। यानी 2200 मीटर से भी कुछ ज्यादा। सो ऊटी में सालों पर ठंडा-ठंडा कूल कूल रहता है। हालांकि तमिलनाडु को में कोडई कनाल और केरल में मुन्नार में वातावरण मनोरम होता है लेकिन ऊटी दक्षिण का सदाबहार टूरिस्ट डेस्टिनेशन है। इसलिए यहां सालों भर सैलानी पहुंचते हैं। 

ऊटी जाने के दो रास्ते - ऊटी पहुंचने के दो रास्ते हैं। पहला रास्ता तमिलनाडु में कोयंबटूर शहर से है तो दूसरा बेंगलुरू से मैसूर होकर। ऊटी कोयंबटूर से लगभग 90 किलोमीटर है। कोयंबटूर तमिलनाडु का बड़ा रेलवे स्टेशन है और एयरपोर्ट भी है। 

कोयंबटूर से ऊटी अगर आप रेल से जाना चाहते हैं तो ब्राडगेज ट्रेन यहां से 45 किलोमीटर आगे मेटूपालियम तक जाती है। चेन्नई से चलने वाली ट्रेन ब्लू माउंटेन एक्सप्रेस मेटूपालियम तक जाती है। कोयंबटूर से मेटूपालियम पैसेंजर ट्रेन से जाया जा सकता है। महज छह रुपये किराया। एक घंटे का अरामदेह सफर। ट्रेन में कोई भीड़ नहीं। मेटुपलियम पहुंचते ही एहसास होने लगता है कि आप शीतलता हरियाली और प्रकृति के करीब जा रहे हैं। मेटुपलियम से ऊटी बस से जाया जा सकता है पर बस में भीड़ होती है। काफी इंतजार के बाद भी हो सकता है कि आपको बस में जगह नहीं मिले। 
इसलिए सैलानियों के लिए टैक्सी करना बेहतर है। टैक्सी वाले बुकिंग के 45 किलोमीटर के लिए 600 से 900 रुपये मांगते हैं। अगर शेयरिंग करते हैं तो 150 रुपये प्रति सवारी। अगर आप सड़क मार्ग से ही ऊटी जाना चाहते हैं कोयंबटूर से ही सीधे टैक्सी या बस बुक करके ऊटी जा सकते हैं। जो बसें कोयंबटूर से आती है उनमें मेटूपालियम में अक्सर जगह नहीं मिलती।

खिलौना ट्रेन से सफर -  मेटूपालियम से ऊटी का 45 किलोमीटर का यादगार सफर तो हो सकता है नीलगिरी माउंटेन रेलवे से। ऊटी पहुंचने का दूसरा तरीका मैसूर से ऊटी बस से जाने का है। इस रास्ते से ऊटी की दूरी 140 किलोमीटर के आसपास है। ये तकरीबन चार घंटे का रास्ता है। लेकिन ये रास्ता पहाड़ी और घुमावदार है। 
-         -  विद्युत प्रकाश मौर्य - vidyutp@gmail.com

(  OOTY, UDAGMANDALAM, UTAKAMAND, NILGIRI, TAMILNADU, METTUPALAYAM, NMR, RAIL ) 

No comments:

Post a Comment