Saturday, December 1, 2012

पंबन ब्रिज - एक अजूबा रेल पुल

पंबन ब्रिज से गुजरती ट्रेन । ( सौ www.ramnad.tn.nic.in)
रामेश्वरम यानी चार धामों में से एक। तमिलनाडु का यह ऐसा तीर्थ है जहां उत्तर भारत से बड़ी संख्या में लोग जाते हैं। रामेश्वरम जाने के लिए आप मदुरै से ट्रेन पकड़ सकते हैं या फिर बस। मदुरै से रामेश्वर 170 किलोमीटर है। एक्सप्रेस ट्रेन तीन घंटे लगाती है तो पैसेंजर ट्रेन भी साढ़े तीन घंटे। मदुरै से रात 12 बजे रामेश्वर के लिए पैसेंजर ट्रेन है। सुबह छह बजे एक्सप्रेस ट्रेन। फिर सुबह पौने सात बजे भी पैसेंजर। अगर आप रामेश्वर दिन के सफर में पहुंचते हैं तो आप ट्रेन या बस से पंबन ब्रिज का नजारा कर सकते हैं।

पंबन ब्रिज यानी देश का एक अनूठा पुल। एक आश्चर्य। एक इंजीनयरिंग का अदभुत नमूना। वास्तव में रामेश्वर भारत के नक्शे में भारत से बाहर एक टापू पर बसा शहर है। रामेश्वर को भारत से जोड़ता है समंदर पर बना पंबन ब्रिज। पंबन ब्रिज देश का पहला सी ब्रिज है। सी ब्रिज यानी समंदर पर बना हुआ पुल। अब मुंबई में भी सी लिंक करने वाला पुल बन गया है। लेकिन पंबन ब्रिज 1885 में बनना आरंभ हुआ था। गुजरात कारीगरों ने इसे 1912 में पूरा किया। 1913 से इस पर रेलगाड़ी चल रही है। पहले मीटर गेज रेलगाड़ियां दौड़ती थी पर अब ब्राड गेज ट्रेनें इस पुल से गुजरती हैं। सौ साल पुराना ये पुल 2.3 किलोमीटर लंबा है। पुल में कोई बाउंड्री नहीं है। रेल की पटरी मानो समंदर के पानी से बस थोड़ा उपर चलती है। आजकल सावधानी बरतते हुए पुल पर चलते हुए हर ट्रेन की गति धीमी कर दी जाती है। रामनाथपुरम रेलवे स्टेशन के बाद आता है पंबन ब्रिज। जब पुल से ट्रेन गुजरती है तब खिड़की से समंदर को देखने अनुभव कभी नहीं भूलने वाला है। अगर आप दिन में इस पुल से गुजरें तो अदभुत आनंद आएगा। 
पंबन - इंदिरा गांधी सड़क पुल ( सौ www.ramnad.tn.nic.in)
 कैंट लीवर ब्रिज -  पंबन ब्रिज की खास बात है कि ये कैंट लीवर ब्रिज है। समंदर में बड़े नेवी के जहाज के आने पर इस पुल को खोला जा सकता है। पुल के दोनों तरफ छह लोग खड़े होकर मेकेनिकल तरीके से पुल को खोल देते हैं।

अब सड़क पुल भी - साल 1987 में राजीव गांधी के शासन काल में  पंबन ब्रिज के समांतर सड़क पुल भी बन गया है। ये सड़क पुल इतना ऊंचा है कि जहाज इसके नीचे से गुजर सकते हैं। सैकड़ों लोग रोज सड़क पुल पर पहुंच कर रेल पुल का नजारा करने आते हैं। पर सड़क पुल बनने से पहले रामेश्वरम तक जाने के लिए एकमात्र तरीका रेल पुल ही था।

-    विद्युत प्रकाश मौर्य ( Email - vidyutp@gmail.com )

   (PAMBAN BRIDGE, RAMESHWARAM, RAMNATHPURAM, TAMILNADU ) 

   

No comments:

Post a Comment