Saturday, November 10, 2012

तिरुवनंतपुरम का मसाला डोसा और बनाना चिप्स

जाला बाजार में मसाला डोसा का स्वाद। 
त्रिवेंद्रम के जाला बाजार में बालाजी रेस्टोरेंट का डोसा और इडली का स्वाद नहीं भूलता। दरें भी काफी वाजिब हैं। लेकिन पद्मनाभ स्वामी मंदिर के पास वाले बस स्टैंड के उल्टी तरफ स्थित है अन्नपूर्णा भोजनालय। यहां का सुबह का नास्ता या फिर दोपहर का भोजन उम्दा है। केरल के ज्यादातर रेस्टोरेंट में आपको मिल्स ( थाली ) भोजन के लिए टोकन लेना पड़ता है। बाकी सब कुछ खाने के लिए टेबल पर बैठकर वेटर को आदेश कर सकते हैं।

 अन्नपूर्णा भोजनालय में केले के पत्ते पर परोसे जाने वाले मिल्स का स्वाद उम्दा तो है ही होटल की सफाई व्यवस्था भी शानदार है।केरल के तमाम भोजनालयों में कैश काउंटर पर लेन देन का काम महिलाएं संभालती हैं। त्रिवेंद्रम में ऐसे कई भोजनालय भी हैं जो उत्तर भारतीय भोजन परोसते हैं। पद्मनाभ स्वामी मंदिर से रेलवे ओवरब्रिज तरफ चलने पर पंजाबी ढाबा भी मिलता है। केरल नारियल के तेल का प्रयोग प्राय हर व्यंजन में होता है।
केरल आयुर्वेदिक वाटर ( लाल पानी ) 
पूरे केरल में भोजनालयों में आपको गर्म पानी परोसा जाता है। ये गर्म पानी आयुर्वेदिक जड़ी बूटियां डाले होने के कारण लाल रंग का होता है। न सिर्फ होटल बल्कि तमाम कैंटीन में भी आपको यही केरला आयुर्वेदिक वाटर पीने को मिलेगा। यानी आपको मिनरल वाटर पीने की कोई जरूरत नहीं है। इस पानी को पीकर आपकी सेहत दुरुस्त रहती है। साथ ही पानी से होने वाली बीमारियों से भी आप सुरक्षित रहते हैं। 

ताजा हॉट बनाना चिप्स की दुकानें -  त्रिवेंद्रम के हर प्रमुख सड़क के कोने पर चाय और पान की दुकानें मिल जाती है। केले के चिप्स यहाँ की ख़ासियत हैं। पद्मानाभ स्वामी मंदिर के बाहर केले के स्वादिष्ट चिप्स की कई दुकाने हैं। ये दुकाने आपके सामने चिप्स बनाकर पैक कर देती हैं। हालांकि केले के चिप्स नारियल तेल और पाम आयल में तले होने के आधार पर महंगे और सस्ते होते हैं। यहां पके हुए केले का भी चिप्प तैयार किया जाता है। 

सलाह -  अगर आप शाकाहारी हैं तो केरल में यात्रा के दौरान खाने के लिए हमेशा पूरी तरह शाकाहारी रेस्टोरेंट का ही चयन करें। केरल में अक्सर मांसाहारी रेस्टोरेंट में चिकेन मटन के साथ बीफ भी मिलता है। यहां बैठकर खाते हुए आपको परेशानी हो सकती है।
- विद्युत प्रकाश मौर्य  
( KERALA, BANANA CHIPS, ANNAPOORNA VEG ) 

No comments:

Post a Comment