Friday, August 17, 2012

वह ‘फिर’ लौट कर नहीं आया

पटना में गंगा में स्टीमर 
तब उत्तर बिहार और पटना के मध्य स्टीमर चलती थी गंगा में। एक स्टीमर यात्रा के क्रम में पिताजी के एक मित्र मिल गए। उनके साथ उनकी पुत्री थी श्वेता। ( ऐसा ही कुछ नाम था उसका ) पिताजी के दोस्त ने कहा, चलिए कैंटीन में चाय पीते हैं...मैं गांव से नया नया आया था..चीनी मिट्टी की प्लेट और प्याली में चाय पीने का अभ्यस्त नहीं था। लिहाजा पहली चुस्की में ही मुंह जल गया। श्वेता मेरी ओर देखकर मुस्कराई। मैं विचलित हो अपने स्थान से हिला और चाय की बूंदे गिरीं मेरे कपड़ों पर।

आगे बढ़कर उसने मेरे कपड़ों से चाय की बूंदों को साफ करते हुए कहा  गरम चाय ऐसे नहीं पीते। पहले थोड़ी सी चाय प्याली में ढ़लकाते हैं, फिर उसे ठंडा करके पीते हैं। मैं मंत्रमुग्ध सा कभी उसका चेहरा देखता कभी उसका चाय पीना। बहरहाल हमलोग चाय पीते पीते स्टीमर के लाउंज पर आ गए। मैं अचानक बोल उठा- ‘देखो देखो पानी पीछे भाग रहा है।श्वेता बोल पड़ी - ‘नहीं बुद्धूजहाज आगे जा रहा है।

स्टीमर से पटना उतरने तक हमलोग अच्छे दोस्त बन चुके थे। यह सुखद संयोग ही रहा है कि आगे की रेलयात्रा में भी हमलोग साथ साथ चलने वाले थे। श्वेता अपनी उम्र के अनुसार बहुत तेज तर्रार और चालक थी बार बार मेरी भोली भाली बातों और सहज अज्ञानता पर हंस पड़ती। मेरे समान्य ज्ञान में अभिवृद्धि के प्रयास में लग जाती। उसके खिलखिलाने के साथ उसकी मुखमुद्रा में विराजमान श्वेत, धवल दंत पंक्तियां, विद्युत रश्मि बिखेरते प्रतीत होते। मेरे उपर तो जादू सा होता चला जा रहा था।

रेलगाड़ी में हमने खिड़की के पास आमने सामने की जगह चुनी। रेल की छुक छुक पीछे भागते पेडों के मध्य हमारा परिचय और प्रगाढ़ होता रहा।
कौन से वर्ग में पढते होक्या खाना अच्छा लगता है...क्या तुम्हारे टीचर जी ने कभी तुम्हें मुर्गा बनाया... मैं बोल पड़ा- मुर्गा...हमारे टीचर जी को हमें गधा कहते हैं। पिता जी गुस्से में होते हैं तो बैल तक कह डालते हैं। फिर वह खिलखिलाकर हंस पड़ी। अचानक रेल एक पुल से गुजरी। देखो ये फल्गु नदी है। इसको न राजा दशरथ जी का शाप लगा हुआ है। साल भर नदी सूखी रहती है। लेकिन इसके अंदर अंदर पानी बहता रहता है। अगर इसको खोदोगे न, तो पानी निकलेगा। ये शब्द मेरे मानस पटल में हमेशा के लिए अंकित हो जाते हैं - देखो ये फल्गु नदी है। अगर इसको खोदोगे न, तो पानी निकलेगा। 

अचानक अगले स्टेशन पर रेलगाड़ी धीमी होकर रूकती चली गई। गया जंक्शन आ गया था। श्वेता अपने पिताजी के साथ उतर गई। उतरते हुए एक चाकलेट थमा गई। प्यार की मिठास भरी। उसके आखिरी शब्द थे...गुड बाय... फिर मिलेंगे। श्वेता की यादें आज भी जेहन में रची बसी हैं। परंतु वह ‘फिर’ कभी लौटकर नहीं आया।

-     -विद्युत प्रकाश मौर्य ( प्रकाशित - नवभारत टाइम्स, 20 दिसंबर 1995 ) 



(( TRAVEL, BIHAR, RAIL, GAYA, FALGU RIVER, SHORT STORY )) 

No comments:

Post a Comment