Monday, July 9, 2012

शिमला के मॉल पर मस्ती भरी शाम

वैसे तो पूरा शिमला ही हंसी है पर मॉल पर शाम रंगीन होती है। देश भर से आए लोग कई घंटे मस्ती में डूबे रहते हैं। शाम ढलने के बाद से लेकर तकरीबन रात 10 बजे तक यहां मौसम गुलजार रहता है। आसपास के होटलों वाले लोग यहां देर तक डटे रहते हैं। वैसे तो पहाड़ों पर नाइट लाइफ नहीं होती इसलिए देर रात तक रौनक कम दिखती है। पर शिमला आएं और मॉल पर न पहुंचे भला ये कैसे हो सकता है, तो जरूर पहुंचिए न। 


 बुजुर्ग होती मम्मियां शिमला पहुंचने के बाद एक बार फिर हॉटपैंट और मिनी पहन कर अपनी जवानी के दिनों को याद करती हैं। शिमला के मॉल पर मां और बेटी एक जैसे पहनावे में नजर आती हैं। हरी हरी बेंच पर बेतकल्लुफ अलग अलग स्वाद की आइसक्रीम को अपने होठों से लगाते हुए। बच्चे और बड़े यहां पर चांदनी रात में घुड़सवारी का मजा लेते हुए नजर आते हैं तो दुल्हा दुल्हन राजा रानी बनकर अलग अलग अंदाज में फोटो खिंचवाते हुए। कुछ चित्रकार यहां पर आपका इंस्टेट स्केच बनाते भी नजर आएंगे। कुछ रुपये दें और बैठकर अपना स्केच तैयार कराएं। 

शिमला हर तरह के लोग पहुंचते हैं। नवविवाहित महिलाओं के हाथों मं चूड़ा तुरंत बता देता है कि वे हनीमून के लिए यहां पहुंचे हैं। तो पुराने लोग अपने बालगोपाल को साथ लेकर पहुंचते हैं। दिन भर आप कहीं भी घूमने जाएं लेकिन शाम को घूमघाम कर मॉल पर कुछ घंटे बिताना शिमला आने वालों का प्रिय शगल है। मॉल पर कुछ आदमकद प्रतिमाएं भी लगी हैं हिमाचल प्रदेश के निर्माता कहे जाने वाले यशवंत सिंह परमार की और इंदिरा गांधी और महात्मा गांधी की प्रतिमा मॉल पर लगी है। यह भी बताया गया है कि गांधी जी कब कब शिमला आए।

शिमला का मॉल कुछ कुछ दार्जिलिंग के चौरस्ता जैसा ही है। यहां भी चार रास्ते आकर मिलते हैं। एक रास्ता लक्कड़ बाजार से आता है एक लिफ्ट की तरफ से। एक रास्ता ऊपर जाखू मंदिर की ओर जाता है। एक लोअर बाजार की ओर ओर इंडियन काफी हाउस की ओर। मॉल पर ऐतिहासिक चर्च है जिसे आप कई फिल्मों में देख चुके हैं। एक तरफ ऐतिहासिक टाउन हाल की बिल्डिंग और गेयटी थियेटर का भवन है। मॉल पर एक ओपन स्टेज बना है जहां अक्सर गीत संगीत के कार्यक्रम होते रहते हैं।
मॉल के आसपास कई एंटिक वस्तुओं की दुकाने हैं। इनमें कई दुकानें काफी पुरानी हैं। अगर आप शिमला घूमने आए हैं और मॉल पर घूमने का आनंद लेना चाहते हैं तो कोशिश करें की किसी ऐसे होटल में ठहरें जो मॉल से ज्यादा दूर न हो। ताकि आप रात को आसानी से अपने होटल पहुंच सकें।

   --- विद्युत प्रकाश मौर्य Email - vidyutp@gmail.com 
     (SHIMLA, MALL,CHURH, HORSE RIDE, MUSIC )

No comments:

Post a Comment