Wednesday, July 25, 2012

पटना का बुद्ध स्मृति पार्क - प्रेरणा भी शांति भी

अगली बार आप पटना जाएं तो बुद्ध स्मृति पार्क जरूर जाएं। नवनिर्मित बुद्ध स्मृति पार्क पटना जंक्शन रेलवे स्टेशन के ठीक सामने है। दरअसल पटना की पुरानी सेंट्रल जेल की जगह अब बन गया है बुद्ध स्मृति पार्क। 

जेल के हटाए जाने के बाद काफी माथापच्ची हुई कि यहां क्या बने लेकिन अंत नीतीश सरकार ने ये तय किया कि यहां बुद्ध के नाम पर स्मृति पार्क बनेगा। ये सरकार का बहुत अच्छा फैसला था। क्योंकि भीड़भाड़ भरे शहर में पार्क बड़ी जरूरत हैं जहां आप उन्मुक्त सांस ले सकें।


बुद्ध स्मृति पार्क सुबह नौ बजे से शाम सात बजे तक खुला रहता है। प्रवेश के लिए दस रुपये का टिकट है। ये टिकट दो घंटे के लिए वैध है। पार्क के अंदर एक विशाल प्रार्थना कक्ष बना है। इसके चारों तरफ है हरी हरी घास का खूबसूरत उद्यान है। पार्क की देखभाल बिहार शहरी आधारभूत संरचना विकास निगम लिमिटेड देखता है। 22 एकड़ जमीन पर 125 करोड़ की लागात से बने इस पार्क को 27 मई 2010 को बुद्ध पूर्णिमा के दिन तिब्बती बौद्ध धर्म गुरू दलाई लामा ने जनता को समर्पित किया। पार्क में बने 200 फीट के स्तूप को दलाई लामा ने नाम दिया है पाटलिपुत्र करुणा स्तूप। इस स्तूप में मंजूषा में भगवान बुद्ध के अस्थि अवशेष रखे गए हैं।

 पार्क की सफाई व्यवस्था शानदार है। समृति पार्क में दुलर्भ वृक्ष भी लगाए गए हैं। मुख्य प्रार्थना हॉल के अलावा दो विशाल प्रार्थना हॉल और भी बनाए जा रहे हैं। बुद्ध स्मृति पार्क पटना के लोगों के लिए घर से बाहर निकलने का एक और सुंदर स्थल है। वहीं बाहर से आने वाले लोग रेलवे स्टेशन के पास न सिर्फ विशाल हनुमान मंदिर का बल्कि बुद्ध स्मृति पार्क में भी जा सकते हैं। वहीं दुनिया भर के बौद्ध मतावलंबियों के आस्था के स्थलों में भी शुमार हो गया है बुद्ध स्मृति पार्क। पटना में हालांकि गौतम बुद्ध से जुड़ा एक और स्मारक बुद्धमूर्ति पहले से मौजूद है। ये मूर्ति कदमकुआं में है जिसकी बुद्धमूर्ति चौराहा के रूप में ही ख्याति है। बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के इस ड्रीम प्रोजेक्ट पार्क की अपनी वेबसाइट भी है।


यहां क्लिक करें http://www.buddha-smriti-park.com/

-    विद्युत प्रकाश मौर्य

( ( BUDDHA SMRITI PARK, PATNA, OLD JAIL, RAILWAY STATION ) 

No comments:

Post a Comment