Thursday, April 20, 2017

ऐसा कोई सगा नहीं जिसे हमने ठगा नहीं..

ऐसा कोई सगा नहीं जिसे हमने ठगा नहीं...वे ऐसा खुलेआम कहते हैं। पर उनकी दुकान पर भीड़ उमड़ती है। आपने कानपुर के ठग्गू के लड्डू की चर्चा तो सुनी ही होगी। चर्चा तो हमने भी खूब सुनी थी। पर ठग्गू के लड्डू को कई बार चखने का और खाने का मौका मिला अपने कानपुर के साथी रमन शुक्ला के सौजन्य से वे जब कानपुर से आते हैं कोई न कोई मिठाई हम दोस्तों के लिए लेकर जरूर आते हैं। वे कई बार ठग्गू के लड्डू भी लेकर आए। वे ठग्गू के लड्डू की कहानी अपने अंदाज में सुनाते हैं। वैसे आपने अगर फिल्म बंटी और बबली देखी होगी तो ऐसा कोई सगा नहीं जिसे हमने ठगा नहीं संवाद से आप परिचित ही होंगे। पर ठग्गू के लड्डू की ये टैग लाइन है। जब उनके लड्डू खाएंगे तो आप ठगा हुआ नहीं महसूस करेंगे। बदलते वक्त के साथ उन्होंने अपने स्वाद और नफासत को बरकरार रखा है। ठग्गू के लड्डू के दीवाने फिल्मी सितारे से लेकर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी तक हैं।
ठग्गू के लड्डू की दुकान की दूसरी पहचान बदनाम कुल्फी से है। बदनाम कुल्फी की टैग लाइन है – बिकती नहीं फुटपाथ पर तो नाम होता टाप पर। आगे लिखा है – मेहमान को चखाना नहीं टिक जाएगा.... यानी जाने का नाम ही नहीं लेगा। कानपुर के लोग इस कुल्फी के दीवाने हैं। कुल्फी शहर से बाहर नहीं जा सकती पर ठग्गू के लड्डू को मुंबई और दूसरे शहरों तक भी पहुंच जाते हैं। ठग्गू के लड्डू का दावा है कि वे मिठाईयों के निर्माण में शुद्ध देशी घी का इस्तेमाल करते हैं। कानपुर में इनका स्टोर उरसला इमरजेंसी मार्केट माल रोड पर स्थित है। कभी कानपुर जाएं तो उधर का रुख कर सकते हैं।
ठग्गू के लड्डू नाम से मिठाई के दुकान की शुरुआत मट्ठा पांडे (रामअवतार पांडे) ने की थी। अब उनकी अगली पीढ़ी में प्रकाश पांडे कारोबार देखते हैं। हालांकि उनके परिवार के लोग बताते हैं कि ऐसा कोई सगा नहीं....जैसा वाक्य मात्र पब्लिसिटी स्टंट था जो काफी हिट रहा।

मट्ठा पांडे ने कानपुर में कोई 60 साल पहले लड्डू की दुकान खोली।वे पहले दिल्ली गए वहां फुटपाथ पर दुकान लगाई। बात नहीं बनी तो फिर कानपुर आकर मेस्टन रोड पर मट्ठा की दुकान खोली। फिर मिठाई के कारोबार में आए। वे गांधी जी के अनुयायी थे। एक बार गांधी जी के भाषण में बापू को यह कहते सुना कि चीनी मीठा जहर है। तो उन्होंने ये चुनौती स्वीकारी कि वे बिना चीनी वाली मिठाई बनाएंगे। ठग्गू के लड्डू की दुकान से आप स्पेशल लड्डू, खोया लड्डू, काजू लड्डू, दूध पेड़ा और बादाम कुल्फी खरीद सकते हैं। उनका स्पेशल लड्डू 510 रुपये किलो या उससे अधिक की दर पर उपलब्ध है।

कानपुर में ठग्गू के लड्डू के तीन स्टोर हैं। काकदेव में देवकी सिनेमा के पास भी उनका आउटलेट है। बड़ा चौराहा सिविल लाइंस में भी उनका स्टोर है। अब ठग्गू के लड्डू वाले दिल्ली एनसीआर में अपना फ्रेंचाइजी खोलने जा रहे हैं। इससे आप दिल्ली में भी कानपुर वाले लड्डू खरीद सकेंगे।


इस बार रमन शुक्ला पेडे लेकर आए। वह जिस मिठाई की दुकान से था उसका नाम है - कृष्ण धाम की राधा बर्फी। यह दुकान कानपुर के शिवाजी नगर में है। हांलाकि वे अत्यंत सुस्वादु पेडे लेकर आए लेकिन यह दुकान खास तौर पर राधा बर्फी के लिए जानी जाती है। इसके प्रोपराइटर ठग्गू के लड्डू परिवार के रिश्तेदार हैं। वैसे कानपुर शहर में कई मिठाई की दुकानें प्रसिद्ध हैं। जब कभी कानपुर जाएं तो अलग अलग तरह की मिठाइयों का आनंद लें।
-      -
---- विद्युत प्रकाश मौर्य
(  ( THAGGU KE LADDU, KANPUR, BADNAM KULFI, RADHA BARFEE ) 


No comments:

Post a Comment