Monday, June 27, 2016

चंबा से वापसी वाया कमेरा लेक

तीन दिनों के चंबा प्रवास के बाद वापसी की यात्रा भी काफी मनोरम रही। हमारा होटल चंबा बस स्टैंड से पांच किलोमीटर आगे परेल में था। इसलिए हमें बस पकड़ने के लिए बस स्टैंड जाने की कोई जरूरत नहीं थी। टाइम टेबल देख लिया था। दोपहर 11.30 बजे चलने वाली बस 20 मिनट बाद हमारे होटल के सामने से गुजरने वाली थी। होटल छोड़ने के समय हमारी मुलाकात होटल रायल ड्रीम्स के प्रोपराइटर हितेश कुकरेजा जी से हो गई। उनसे पहले फोन पर कई बार बात हुई थी। वे हमसे मिल कर बड़े खुश हुए। हम सारा सामान लेकर होटल के सामने खड़े हो गए। थोड़ी देर में हिमाचल रोडवेज की मनाली जाने वाली बस आई। भीड़ नहीं थी। आसानी से मनचाही जगह मिल गई। 
रावी नदी पर चंबा बनीखेत मार्ग पर बना जलाशय

रावी नदी के साथ चल रही सड़क पर हमारी बस आगे बढ़ रही थी। चंबा शहर पीछे छूटता जा रहा था। वह शहर हमें किसी सपने जैसा लग रहा था, जहां हमने तीन दिन गुजारे थे। दस किलोमीटर चलने पर चनेड़ नामक छोटा सा कस्बा आया। इसके बाद शुरू हो जाता है रावी नदी पर बने विशाल जलाशय का नजारा। सर्पीले वलय खाती सडक पर बस आगे बढ़ रही है। एक तरफ ऊंचा पहाड़ है तो दूसरी तरफ रावी नदी। नदी का जल काफी नीचे गहराई में दिखाई दे रहा था। हमने खिड़की के पास वाली जगह ली और कैमरा क्लिक करता गया। जितनी तस्वीरें ले सकता था लेता रहा। ऐसा लग रहा था मानो इन सारे खूबसूरत नजारों को  कैद कर लूं। कहीं कहीं नदी के उस पार सड़क नजर आती है। रावी नदी पर बने कमेरा जलाशय में एक स्थल है जहां पर सैलानियों के लिए जलाशय में बोटिंग की सुविधा उपलब्ध है।
रावी नदी पर जलाशय के किनारे लेक व्यू ढाबा। 

कमेरा लेक के पास आता है द्रड्डा नामक कस्बा। यह 1500 मीटर की ऊंचाई पर स्थित है। यहां पर एक पुलिस चौकी है। हाईवे पर कहीं कहीं हमें ढाबे भी नजर आते हैं। इसी मार्ग पर एक लेक व्यू ढाबा नजर आता है। द्रड्डा के बाद आता है परिहार। और परिहार के बाद गाडियार। थोड़ा आगे चलने पर गोली नामक कस्बा आता है। गोली  बनीखेत और चंबा के बीच छोटा सा कस्बा है गोली। यहां से प्रसिद्ध भलेई माता का मंदिर 15 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है। गोली में अच्छा खासा बाजार और बैंकों की शाखाएं नजर आती हैं।
यहां से भलेई देवी के लिए रास्ता बदलता है....
इसके बाद आता है देवी देहरा नामक  बस स्टाप।  देवी देहरा से आगे बढ़े पर हम पहुंचते हैं बाथरी।  – बाथरी से बनीखेत की दूरी 7 किलोमीटर है। बाथरी बनीखेत के बीच सुकडाई बाई नामक एक गांव आता है। चंबा से बनीखेत के बीच की दूरी 47 किलोमीटर है। 

बनीखेत में सारी बसे 10 से 20 मिनट रुकती हैं। पर हमारी बस बनखेत से चलकर डलहौजी जाती है। डलहौजी में थोड़ी देर रुकने के बाद फिर बनीखेत आती है। इसके बाद आगे के सफर पर रवाना हो जाती है। सुबह 11.30 बजे चंबा से चलने वाली ये बस अगले दिन सुबह 5 बजे मनाली पहुंच जाती है। बनीखेत के बाद आने वाला नैनीखड्ड में तीखे मोड़ और गहरी खाई है। पंजाब के दुनेरा में पहुंचने तक पूरा रास्ता पहाड़ी है। पहाड़ों पर बस हो या कार ड्राइविंग के लिए काफी कुशलता और धैर्य चाहिए। हमने पठानकोट पहुंचने के बाद अपने ड्राईवर महोदय को मन ही मन धन्यवाद कहा।
रावी नदी पर बने जलाशय का एक और नजारा 

चंबा से मनाली जाने वाली बस। 
पठानकोट से हमारी ट्रेन धौलाधार एक्सप्रेस रात को 11.20 बजे थी। इस बीच मैं अपने पुराने मित्र शिवबरन तिवारी से मिलने पहुंचा। वे यहां दैनिक भास्कर में हैं। अनादि अपने दोस्त से मिलना चाहते थे जो ट्रांसफर होने के बाद पठानकोट आ गया है। उनकी भी मुराद पूरी हो गई। धौलाधार एक्सप्रेस अपने नियत समय पर खुली। पर हमारी बर्थ ए 2 कोच में है तो माधवी की ए 3 में। हम ट्रेन में अलग अलग हो गए। पूरे कोच में दिल्ली के एक निजी स्कूल के 12वीं कक्षा के छात्र छात्राएं हैं जो चंबा भ्रमण करके लौट रहे हैं।
ये लोग सारी रात ट्रेन में हंगामा करते रहे। सोने का तो सवाल ही नहीं उठता। सुबह का सूरत उगा तो हमारी ट्रेन लुधियाना, धूरी, संगरूर, जाखल जैसे स्टेशनों को छोड़ती हुई जय जयवंती नाम स्टेशन से आगे बढ़ रही थी। नाम मजेदार है ना। इसी नाम का एक शास्त्रीय संगीत में राग भी है। अब बस इतना ही। फिर चलेंगे किसी और यात्रा पर।
-         विद्युत प्रकाश मौर्य – vidyutp@gmail.com
(CHAMBA, RAVI RIVER, BANIKHET, PATHANKOT, HIMACHAL ROADWAYS ) 
हरियाणा में है जयजयवंती रेलवे स्टेशन 



No comments:

Post a Comment