Saturday, June 25, 2016

मां चामुंडा के चरणों में बसा है चंबा शहर

चामुंडा मंदिर के बारे में कहा जाता है कि चंबा नगर बसने से पहले भी विद्यमान था। वर्तमान मंदिर मूल मंदिर के नष्ट होने के बाद बनाया गया है। सारा चंबा शहर मां चामुंडा के चरणों में बसा हुआ है। मंदिर भित्ति चित्र और काष्ठकला का अदभुत उदाहरण है। चामुंडा मंदिर पैगोडा शैली में बना हुआ है। यह चंबा के बाकी मंदिरों से काफी अलग है।

कहा जाता है कि राजा शालिवर्मन द्वारा चंबा नगर बसाने से पहले यह मंदिर यहां मौजूद था। पर आपदा में मंदिर के ध्वस्त हो जाने पर इसका दुबारा निर्माण कराया गया। पैगोडा शैली के इस मंदिर का गर्भगृह ऊंचे चबूतरे पर बनाया गया है। इसका मंडप खुला हुआ है। निर्माण में स्लेटी पत्थरों का इस्तेमाल किया गया है। छतों के किनारों में चार नक्काशीदार काष्ठ निर्मित श्रंखला देखी जा सकती है। मंडप की काष्ठ निर्मित छत नौ हिस्सों में बंटी है। इस पर काष्ठ फलक और चार सुंदर प्रतिमाएं अंकित की गई हैं। बाकी आठ वर्गों में अर्धामूर्ति पूरणीय आकृतियां बनी हैं।
मंदिर का पूरा छत मूर्ति शिल्प से सज्जित है। बीम पर देवी देवताओं,गंधर्वों और ऋषिओं के चित्र अंकित किए गए हैं। कई बीम पर पशु पक्षियों के भी चित्र हैं। स्तंभ शीर्ष पर योगासन करती मानव आकृतियां बनी हैं। गर्भ गृह के प्रवेश द्वार पर विशाल पीतल की घंटियां बनी हैं। यहां पर एक अभिलेख भी उत्तकीर्ण है। इस पर लिखा गया है कि पंडित विद्याधर ने 2 अप्रैल 1762 में 27 सेर वजन और 27 रुपये मूल्य की इस घंटी को दान में दिया था।
चामुंडा मंदिर काष्ठ कला का उत्कृष्ट उदाहरण पेश करता है। भारत सरकार के पुरातत्व विभाग ने इस राष्ट्रीय महत्व का संरक्षित स्मारक घोषित किया है।  

बैशाख में विशाल मेला - चामुंडा मंदिर में बैशाख मास में मेला लगता है। इस समय बैरावली चंडी माता अपनी बहन चामुंडा से मिलने के लिए आती हैं। इस दौरान विशाल मेला लगता है। उस समय श्रद्धालुओं की तांता लग जाता है।
चामुंडा मंदिर के प्राचीर से चंबा शहर का अदभुत नजारा दिखाई देता है। मंदिर ऊंचाई पर स्थित है इसलिए नीचे की तरफ पूरा शहर दिखाई देता है। मंदिर के प्रांगण से रावी नदी और सड़कों का भी सुंदर नजारा दिखाई देता है। रात की रोशनी में तो यहां से शहर का सौंदर्य और भी बढ़ जाता है। मंदिर में रोज शाम को आरती होती है। आरती के बाद अगर आप यहां से चंबा शहर का नजारा करें तो अदभुत आनंद आता है।

कैसे पहुंचे – मंदिर तक पहुंचने के दो रास्ते हैं। एक सड़क मार्ग से और दूसरा सीढ़ियों से। कोई 500 सीढ़ियां चढ़कर चंबा के मुख्य बाजार से चामुंडा मंदिर तक पहुंचा जा सकता है। अगर सड़क मार्ग से मंदिर पहुंचना है तो झुमार जाने वाले मार्ग पर कोई दो किलोमीटर चलने के बाद मंदिर पहुंच सकते हैं।
चामुंडा देवी मंदिर के प्राचीर से दिखाईदेता चंबा शहर और चौगान मैदान। 

1 comment: