Saturday, May 7, 2016

आर्य वैश्यों का तीर्थ पेनुगोंडा का वासवी धाम

आंध्र प्रदेश के राजमुंदरी जिले के पेनुगोंडा स्थित वासवी धाम दक्षिण भारत में आर्य वासव समुदाय के लोगों का बड़ा तीर्थ स्थल है। पेनुगोंडा को वासवी माता की जन्म स्थली माना जाता है। यहां पर विशाल वासवी कन्या परमेश्वरी मंदिर का निर्माण किया गया है। मंदिर परिसर में वासवी देवी की विशाल सुनहले रंग की मूर्ति है। तेलगू साहित्य में कई जगह वासवी देवी की चर्चा आती है। वासवी देवी के मंदिर परिसर में नगरेश्वरस्वामी, कन्यापरमेश्वरी देवी और महिषासुर मर्दिनी की प्रतिमा है। मंदिर का निर्माण वास्तु के नियमों को ध्यान में रखतेहुए किया गया है। सड़क से मंदिर की तरफ जाते ही विशाल गोपुरम बना है। वासवी देवी की सुनहली प्रतिमा दूर से ही नजर आती है। जिस तरह बौद्ध मतावलंबियोंके लिए बोध गया जैन लोगों के लिए श्रावणबेलगोला का महत्व है उसी तरह पेनुगोंडा का महत्व आर्य वैश्य लोगों के लिए है। दक्षिण के वैश्य लोग इसे अपनी काशी मानते हैं।

11वीं सदी में कुसुम शेट्टी वैश्य राजा हुआ करता था। उसकी राजधानी पेनुगोंडा में थी। उसकी पत्नी कुसुमांबा थी। इन दोनों को क्षेत्र में आदर्श माना जाता था। दोनों भगवान शिव के बड़े उपासक थे। वे इस बात से दुखी रहते थे कि उनकी राजकाज को आगे बढ़ाने के लिए कोई उत्तराधिकारी नहीं था। उन्होंने अपनी चिंता अपने कुलगुरू भास्कर आचार्य से साझा की। उन्होंने पुत्र कामेष्ठि यज्ञ करने की सलाह दी। यज्ञ से भगवान प्रसन्न हुए और उन्हे प्रसाद में फल भेजा। उन्हे बताया गया कि प्रसादम ग्रहण करने पर उन्हें संतान होगी। प्रसादम लेने के बाद कुछ समय बाद कुसुमअंबा को गर्भ धारण हुआ। वसंत का मौसम था, कुसुमअंबा ने जुड़वा बच्चों को जन्म दिया। एक बालक और एक बालिका। बालक का नाम विरुपक्ष और बालिका का नाम वासवीअंबा रखा गया। विरुपक्ष को आचार्य भास्कर ने शस्त्र विद्या और पुराणों आदि की शिक्षा दी। वहीं वासवी को कला और दर्शन शास्त्र की शिक्षा दी गई। बड़े होने पर विरुपक्ष की अलुर के आरधी शेट्टी की बेटी से धूमधाम से शादी कर दी गई।

जब राजा विष्णुवर्धन अपने राज्य विस्तार के लिए पेनुगोंडा की ओर पहुंचे तो राजा कुसुमा शेट्टी ने उनका स्वागत किया। इसी दौरान वासवी को देखकर विष्णुवर्धन उनपर मोहित हो गए। उन्होने राजा के पास वासवी से विवाह का संदेश भिजवाया । पर कुसुमा शेट्टी के लिए इसे स्वीकार करना मुश्किल था क्योंकि राजा विष्णुवर्धन पहले से विवाहित थे। कुसुमा शेट्टी के इनकार के बाद विष्णुवर्धन ने पेनुगोंडा पर आक्रमण कर दिया। राजा ने इस समस्या से निपटने के लिए अपने 714 गोत्र के लोगों की बैठक बुलाई। इसमें से 102 गोत्र के लोगों ने सलाह दी कि हमें बहादुरी से लड़ना चाहिए। वहीं 612 की सलाह थी कि हमें विष्णुवर्धन के आगे हथियार डाल देना चाहिए। पर कुल गुरू की सलाह पर युद्ध लड़कर सम्मान बचाने पर फैसला हुआ। पर इसी समय वासवी ने आगे आकर कहा एक व्यक्ति के लिए इतने सारे लोग क्यों मारे जाएंगे। मैं आत्म बलिदान दूंगी। तब वासवी ने खुलासा किया कि मैं आदिपाराशक्ति देवी का रूप हूं। जैसे वासवी देवी ने आत्मबलिदान दिया। राजा विष्णुवर्धन की खून की उल्टियों के साथ मौत हो गई।


पेनुगोंडा में वासवी देवी का विशाल मंदिर निर्माणाधीन है। मंदिर परिसर में वासवी धर्मशाला है जिसमें अतिथियों के निवास के लिए वातानुकूलित और समान्य कमरे उपलब्ध हैं। मंदिर में सालों भर अन्नदानम कार्यक्रम भी चलता है। मंदिर परिसर आसपास के लोगों को विवाह समारोह के लिए परिसर भी उपलब्ध कराता है। परिसर में हरियाली विराजती है। एक सुंदर सरोवर भी है। आसपास में नारियल के असंख्य पेड़ वातावारण को और भी सुंदर बनाते हैं।  

कैसे पहुंचे  वासवी धाम पेनुगोंडा में कैनाल रोड पर स्थित है। पेनुगोंडा आंध्र के वेस्ट गोदावरी जिले में स्थित है। तानुकू रेलवे स्टेशन ( TNKU) से वासवी धाम की दूरी 15 किलोमीटर है। राजामुंदरी रेलवे स्टेशन से तानुकू की दूरी 40 किलोमीटर है। दोनो शहरों से स्थानीय शेयरिंग बस टैक्सी सेवाएं उपलब्ध है।





( Sri Vasavi Kanyaka Parameswari temple, PENUGONDA, TANUKU, RAJAMNUDARI, ANDHRA PRADESH) 

No comments:

Post a Comment