Tuesday, May 3, 2016

गांधी हिल्स - बापू की याद में पहाड़ी पर स्मारक

बापू की स्मृतियां  जहां जहां हम वहां वहां। विजयवाड़ा के प्रमुख दर्शनीय स्थलों में से एक है गांधी हिल्स। ये पहाड़ी रेलवे स्टेशन के प्लेटफार्म नंबर 10 के सामने है। सड़क के बगल में प्रवेश द्वार है। यहां आपको 10 रुपये का टिकट लेकर प्रवेश करना पड़ता है। प्रवेश का  समय शाम 4.30 बजे से रात्रि 8 बजे तक का है। शहर की एक पहाड़ी पर मां कनक दुर्गा बसती हैं तो दूसरी पहाड़ी पर गांधी जी। देश के आजाद होने के बाद बापू की याद में यह कोई पहला स्मारक है जो किसी पहाड़ी पर बना है।
स्मारक तक पहुंचने के दो रास्ते हैं। एक वाहन द्वारा जो थोड़ा लंबा है। अगर आप पैदल हैं सीढ़ियां चढ़कर तेजी से पहुंच सकते हैं। पार्किंग के बगल में एक छोटा सा सुंदर उद्यान है। इसके बाद कुछ सीढ़ियां और उपर चढ़ने पर एक विशाल स्तंभ बना है जो बापू का स्मारक है। इसे स्थानीय लोग स्तूप भी कहते हैं। इसके चारों दीवारों पर चार-चार सुंदर कलाकृतियां लगाई गई हैं। एक शिलापट्ट पर विजयवाड़ा और बापू की याद में संक्षिप्त इतिहास अंकित है।

विजयवाड़ा में 1921 में कांग्रेस का राष्ट्रीय अधिवेशन हुआ था। 30 मार्च 1921 को बापू यहां आए थे। यह अधिवेशन कई मायनों में खास था। इसी अधिवेशन में कांग्रेस की सदस्य निधि एक करोड़ पहुंचाने का लक्ष्य रखा गया। इसके साथ ही देश के झंडे के नए स्वरूप पर चर्चा हुई। झंडे में चरखे का अधिष्ठान किया गया। इसके साथ ही देश भर में स्वदेशी के प्रसार के लिए घर घर में 20 लाख चरखे पहुंचाने का लक्ष्य रखा गया।
देश आजाद पर होने पर बापू के विजयवाड़ा आगमन और कांग्रेस के अधिवेशन की याद में एक पहाड़ी गांधी के नाम पर समर्पित किया गया और यहां बापू का स्तूप निर्मित कराया गया। 9 नवंबर 1964 को इसका शिलान्यास प्रधानमंत्री लाल बहादुर शास्त्री ने किया। तो 6 अक्तूबर 1968 को गांधी स्मृति का उदघाटन तत्कालीन राष्ट्रपति डाक्टर जाकिर हुसैन ने किया। स्तूप के बगल में दूरदर्शन का टावर है। यहां एनटी रमाराव और इंदिरा गांधी भी पधार चुके हैं।

अनूठी खिलौना ट्रेन- गांधी हिल्स पर अनूठी खिलौना ट्रेन चलती है। यह ट्रेन 1969 में आरंभ की गई। देश की आजादी का रजत जयंती के मौके पर। यह ट्रेन पहाड़ पर गांधी स्तूप का एक चक्कर लगाती है। 14 जून 1969 को इसका उदघाटन तत्कालीन रेल मंत्री राम सुभग सिंह ने किया था। तबसे ये ट्रेन लगातार चल रही है। आजकल इसमें एपीआई का तिपहिया वाहन वाला लोकोमोटिव लगा है। इस खिलौना ट्रेन से चक्कर  लगाते समय पूरे विजयवाड़ा शहर का सुंदर नजारा दिखाई देता है। ट्रेन का किराया 10 रुपये है। पर कम से कम 4 सवारी होने पर ही संचालित होती है। मैंने टिकट लिया तो मैं पहली सवारी था। पर संयोग से और कुछ लोग आ गए और ट्रेन चल पड़ी।  आजकल गांधी हिल विजयवाड़ा के प्रेमी युगलों का एकांत मिलन स्थल भी बन गया है।   
- vidyutp@gmail.com



No comments:

Post a Comment