Saturday, April 23, 2016

जायका रतलाम के सेव का

हमारी ट्रेन जब भी रतलाम से होकर गुजरती है मैं रतलामी सेव का एक पैकेट जरूर खरीदता हूं। वैसे तो सेव इंदौर और उज्जैन के भी प्रसिद्ध हैं पर रतलामी सेव की बात अलग है। रतलाम मध्य प्रदेश का शहर है। यह रेलवे का बड़ा जंक्शन है। ट्रेन जब  गुजरात से निकल कर मध्य प्रदेश में प्रवेश करती है तो रतलाम पहला बड़ा स्टेशन आता है। ज्यादातर ट्रेनें यहां रूकती हैं।

ब्रिटिश राज में रतलाम की रियासत मशहूर थी। पर अब रतलाम को अंतरराष्ट्रीय पहचान दिलाई है यहां के सेव ने। वैसे कहा जाता है कि रतलाम की पहचान सोना , साड़ी और सेव से है। पर सेव ऐसी चीज है जो हर किसी के जेब के अनुकूल है।


रतलाम का सेव भी तो बेसन और नमक से बनता है। तो इसमें खास क्या है सेव तो पूरे देश में बनता है। पर रतलामी सेव का अपना अलग स्वाद है। इसमें एक खास तरह का तीखापन होता है। इसमें लौंग, लहसून, हिंग और काली मिर्च का इस्तेमाल होता है। रतलामी सेव मूंगफली के तेल में बनता है।

रतलाम की हवा, पानी और यहां का मौसम यहां के सेव को खास बनाते हैं। यहां के कारीगरों ने यही प्रयोग दूसरी जगह भी करके देखा पर वे रतलाम जैसा स्वाद नहीं ला सके। वैसे मालवा के लोग रोज खाने में सेव का इस्तेमाल करते हैं। दाल चावल की थाली मेंऊपर से सेव का छिड़काव करके खाने को और भी स्वादिष्ट बनाते हैं।

रतलाम में खंडेलवाल के रतलामी सेव काफी प्रसिद्ध हैं। पर मुझे स्टेशन पर गणेश का सेव मिलता है। इसका भी स्वाद अच्छा है। यहां मैं खरीदता हूं 80 रुपये में आधा किलो का पैकेट। हो सकता है बाजार में थोडा सस्ता हो। रतलाम के बाजार में आपको सादा सेव के अलावा लौंग सेव, पालक सेव, टमाटर सेव, लहसून सेव आदि किस्म मिल जाएंगी। खास तौर पर लौंग सेव और लहसून सेव का स्वाद आपको लुभाएगा। एक अनुमान है कि रतलाम से रोज 10 टन सेव आर्डर पर दूसरे शहरों में भेजी जाती है।

रतलाम के बाद ट्रेन राजस्थान में प्रवेश कर जाती है। भवानी मंडी नामक रेलवे स्टेशन आता है जो झालावाड़ जिले में है। यह एक राज्य का सीमांत शहर है। इसके बाद रामगंज मंडी दूसरा स्टेशन आता है जो कोटा जिले में है हालांकि यहां दूरंतो, गरीब रथ जैसी ट्रेनें नहीं रुकतीं। रामगंज मंडी झालावाड जाने का निकटतम रेलवे स्टेशन हुआ करता था। यहां से झालावाड़ 26 किलोमीटर है। अब रामगंज मंडी से झालवाड़ तक रेल लिंक बन चुका है। झालावाड़ से 13 किलोमीटर आगे आप गगरोन का किला देख सकते हैं जो विश्व विरासत की सूची में शामिल है।  

No comments:

Post a Comment