Wednesday, January 6, 2016

पालमपुर - धौलाधार के धवल शिखर देखिए यहां से

कांगड़ा की हसीन वादियों के बीच पालमपुर शहर। शहर के अंदर तो बाकी शहरों की तरह भीड़भाड़ दिखाई देती है। पर यहां से धौलाधार पर्वत के उच्च शिखर दिखाई देते हैं। खास तौर पर जब इन शिखरों पर बर्फबारी हो गई हो तो इनका सौंदर्य और बढ़ जाता है। भौगोलिक तौर पर कांगड़ा जिले की बात करें तो यह देश के कई छोटे राज्यों से बड़ा है। वैसे इस जिले में कांगड़ा, धर्मशाला, मैकलोगंज, नगरोटा बागवां पपरोला जैसे कई शहर आसपास में ही पर पालमपुर की बात निराली है। आप यूं समझे कि ये हिमाचल प्रदेश की दूसरी राजधानी है। 1472 मीटर  4829 फीट की ऊंचाई पर स्थित पालमपुर का मौसम सालों भर सुहाना रहता है। हालांकि गरमियों में तापमान 34 डिग्री तक जाता है। पर सरदी में यह माइनस 4 तक भी चला जाता है। 


शहर के बाहर कांगड़ा के चाय बगान नजर आते हैं। आसपास चीड़ के जंगल भी हैं। अगर आपकी इच्छा जंगलों में ट्रेकिंग की है तो इसका भी आनंद उठा सकते हैं। पानी के छोटे छोटे झरने और हरियाली मिल कर पालमपुर के नयनाभिराम दृश्यावली प्रदान करते हैं। तो मशहूर पेंटर सोभा सिंह का गांव अंद्रेटा पास में स्थित हैं। यहां पर उनकी पेंटिंग गैलरी भी है। जिसे आप देख सकते हैं। 1947 में सोभा सिंह को यहां की आबोहवा इतनी पसंद आ गई कि यहीं पर आकर वे बस गए।

डाक्टर जेमसन 1849 में पालमपुर के आसपास चाय के बगान लेकर आए। इसके बाद कांगड़ा वैली टी की पहचान अंतरराष्ट्रीय स्तर पर बन गई। 1941 में यहां पंडित जवाहर लाल नेहरू आए तो उनकी याद में शहर में नेहरू चौक बना है। यहां पर हिमाचल प्रदेश का एक कृषि विश्वविद्यालय भी है। तकरीबन 70 हजार की आबादी वाले पालमपुर शहर का बाजार बदल रहा है। अब यहां पर ब्रांडेड उत्पादों के शो रूम नजर आने लगे हैं। पालमपुर कांगड़ा जिले का सबसे बड़ा शहर बन चुका है।

यहां पर ट्रैकिंग और पारा ग्लाइडिंग का भी आनंद उठा सकते हैं। काफी सैलानी होली तक ट्रैकिंग और बीर-बिलिंग में एडवेंचर स्पोर्ट्स के लिए पहुंचते हैं। पालमपुर भाजपा के वरिष्ठ नेता और साहित्यकार शांता कुमार का घर है।

पालमपुर में कांगड़ा वैली रेलवे का पालमपुर हिमाचल नामक रेलवे स्टेशन भी है। यहां आप पठानकोट से इस नैरोगेज ट्रेन से भी पहुंच सकते हैं। रेलवे स्टेशन के पास रेलवे स्टाफ का क्वार्टर भी है। यहां वायु मार्ग से भी पहुंचा जा सकता है। कांगड़ा के गग्गल एयरपोर्ट तक नियमित फ्लाइट्स भी आती हैं। वैसे पठानकोट से सड़क मार्ग से दूरी 112 किलोमीटर है। यहां पंजाब के होशियारपुर शहर से सड़क मार्ग से पहुंचा जा सकता है।


पालमपुर के पास अलहिलाल में आर्मी का बड़ा केंद्र है। पपरोला के रास्ते में विवेकानंद मेडिकल रिसर्च ट्रस्ट का योग और प्राकृतिक चिकित्सा केंद्र नजर आता है।  पालमपुर के आसपास आप चामुंडा देवी और पपरोला में बैजनाथ मंदिर देखने जा सकते हैं। चामुंडा देवी की दूरी 20 किलोमीटर है तो पपरोला की दूरी 18 किलोमीटर है। आप पालमपुर को केंद्र बनाकर भी कांगड़ा की वादियों में घूम सकते हैं। रहने के लिए पालमपुर में हर स्तर के होटल मौजूद हैं।
 - vidyutp@gmail.com
बर्फ से ढकी धौलाधार की चोटियां।



1 comment:

  1. जय मां हाटेशवरी...
    आपने लिखा...
    कुछ लोगों ने ही पढ़ा...
    हम चाहते हैं कि इसे सभी पढ़ें...

    इस लिये दिनांक 11/01/2016 को आप की इस रचना का लिंक होगा...
    चर्चा मंच[कुलदीप ठाकुर द्वारा प्रस्तुत चर्चा] पर...
    आप भी आयेगा....
    धन्यवाद...

    ReplyDelete