Sunday, November 22, 2015

इडली-डोसा-जूस आईसक्रीम- कांचीपुरम और सरवन भवन

दिल्ली में रहते हुए हम कई बार सरवन भवन में दक्षिण का स्वाद लेने जाते हैं तो चेन्नई में जब हम सरवन भवन के शहर में थे तो ये मौका कैसे छोड़ देते भला। कांचीपुरम में भी सरवन भवन की शाखा है। सो कांचीपुरम भ्रमण पूरा होने पर हम पहुंच गए सरवन भवन। कांचीपुरम का सरवन भवन बस स्टैंड के पास मुख्य बाजार में है। दो मंजिला रेस्टोरेंट में नीचे टिफीन सेवाएं हैं तो ऊपर लंच और डिनर सेवाएं।

सरवन भवन के तमिलनाडु में स्थित रेस्टोरेंट्स में खाने पीने की दरें दिल्ली की तुलना में आधी हैं। जैसे यहां मसाला डोसा 60 रुपये का है। टिफीन वाले हिस्से की सर्विस काफी तेज है। खास बात ये है कि यहां आपको चाय और काफी मिल जाएगी। बड़ी संख्या में स्थानीय लोग यहां चाय सुड़कते हुए भी मिल जाते हैं। कोई भी यहां से वापस नहीं लौटे इसलिए सरवन भवन ने ताजे फलों के जूस का काउंटर शुरू कर दिया है। साथ ही अपने ब्रांड की कई तरह की आइसक्रीम बनाना भी आरंभ कर दिया है।

कांचीपुरम के सरवन भवन में दो तरह के डायनिंग हाल हैं। समान्य की तुलना में वातानुकूलित वाले डायनिंग हाल में टैक्स के कारण दरें ज्यादा रहती हैं। हमलोग समान्य हाल में ही बैठ गए। चेन्नई में सरवन भवन के 16 रेस्टोरेंट हैं। पिछले दो दशक में उनके रेस्टोरेंट की संख्या बढ़ी है। चेन्नई में पेरियामेट इलाके में उनके रेस्टोरेंट में दुबारा जाने का मौका मिला। सरवन भवन के हर रेस्टोरेंट में मीनू एक जैसा ही है। दरें भी एक सी हैं।

कांचीपुरम के सरवन भवन में हम अपनी अपनी पसंद के अलग अलग व्यंजनों का आर्डर देते हैं। बाद में आइसक्रीम का भी लुत्फ उठाते हैं। आईसक्रीम की दरें काफी वाजिब हैं। दक्षिण में घूमते हुए सरवन भवन हमारा फेवरिट बन गया। हालांकि पुडुचेरी के जवाहर लाल नेहरू स्ट्रीट पर भी सरवन भवन देखने को मिला पर उसका मालिकाना हक चेन्नई से अलग समूह का है। चेन्नई के सरवन भवन की खास बात यह है कि इसमें न सिर्फ दक्षिण भारतीय बल्कि अब उत्तर भारतीय व्यंजन भी इसके मीनू में शामिल हो चुके हैं। मतलब की आपको कुछ भी चाहिए आप सरवन भवन से वापस नहीं जा सकते।
-vidyutp@gmail.com

No comments:

Post a Comment