Monday, November 2, 2015

बापू और अंबेडकर के साथ पुडुचेरी की शाम

अगर आप हिन्दुस्तान के इस छोटे से सुंदर से शहर पुडुचेरी में हैं तो शाम गुजारने के लिए गांधी प्रतिमा से बेहतर कोई जगह नहीं हो सकती। न सिर्फ देशी बल्कि विदेशी लोग भी यहां घंटो फुरसतियाते मिल जाएंगे। गांधी स्टैच्यू के दोनों तरफ पुडुचेरी में बने इस मरीन ड्राइव की लंबाई करीब 1.25 किलोमीटर है। इस चौडे पथ पर वाहन प्रतिबंधित हैं. सिर्फ पदातियों के उन्मुकत विचरण के लिए बना हये पथ। हमने लाल बहादुर शास्त्री स्ट्रीट पर अपनी एक्टिवा पार्क की और आनंद मनाते लोगों की भीड़ में शामिल हो गए। तट पर जगह जगह स्थायी बेच लगे हैं। सुस्ताने के लिए। मरजी है तो आप लहरों की अटखेलियां देखते रहिए। समंदर कभी बोर नहीं करता। यहां मंडप में साबरमती के संत की खड़ी प्रतिमा है।

  रात की रोशनी में बापू मुस्कराते प्रतीत होते हैं। उनके पांव के पास बच्चे किलोल करने में व्यस्त हैं। बड़े होकर ये देश के कर्णधार बनेंगे। बापू तो भारत का भविष्य देखकर लगातार मुस्कान बिखेर रहे है। बापू के ठीक उल्टी तरफ उन्हें देखती हुई पंडित नेहरू जी की भी प्रतिमा है। पुडुचेरी के मरीन ड्राइव पर अंबेडकर मंडप भी है. यहां बाबा साहेब की चिर परिचित शिक्षित बनो संघर्ष करो की मुद्रा में प्रतिमा है. मैं बेटे अनादि को बाबा साहेब के बारे में थोड़ा सा बताता हूं। वे कहते हैं,  मैं भी उसी मुद्रा में फोटो खिंचवाउंगा। 


पुडुचेरी का समुद्र तट अरविंदो आश्रम के पृष्ठ भाग में है. हमें आश्रम के छापाखाना का भवन नजर आता है। इस पर लिखा है अरविंदो आश्रम प्रेस। हमलोग आगे बढ़ते हैं। चौपाटी पर बाजार है। आप क्या खाएंगे। पानी पूरी या फिर और कुछ। बच्चों के लिए ढेर सारे खिलानों की दुकानें भी सजी हैं। अनादि की बब्बल उड़ाने की इच्छा है, तो उन्हें भी मना नहीं कर पाया। तभी एक शोख विदेशी बाला आकर पूछती है... ये गांधी स्टैच्यू किधर है. मैं रास्ता बता देता हूं।

आज यहां पुडुचेरी सरकार की ओर क्राफ्ट बाजार भी लगा हुआ है. सैकड़ों दुकानें. बैकवर्ड क्लास वेलफेयर एसोसिएशन के शिल्पी भाईयों ने दुकानें सजा रखी हैं। इस बाार में सब कुछ बिक रहा है। हम भी घूमने पहुंच गए। तो वहां पत्नी को झुमके पसंद आ गए लेना पड़ा। 

इस बाजार में रंगारंग सांस्कृतिक कार्यक्रम भी चल रहा है। नन्हें बच्चे तमिल में गीत पेश कर रहे हैं। शब्द समझ में भले ही नहीं आ रहे हों पर धुन बहुत प्यारी है। सो हम बैठकर संगीत का आनंद लेने लगे। पुडुचेरी के इस सुहाने तट पर देर रात तक लोग विचरण करते रहते हैं। पर हमें भूख सता रह थी. इस लिए हम चल पड़े. अपने प्रिय डेस्टिनेशन आडयार आनंद भवन की ओर। 

गांधी प्रतिमा के पास एक कैफे है। यहां  बैठकर कॉफी पीना सुहानी अनुभूति है। उपर से बीएसएनएल की और से यहां पर सैलानियों को फ्री वाईफाई की सुविधा दी जाती है। आधे घंटे से ज्यादा इस्तेमाल के लिए आपको शुल्क देना पड़ेगा। शुरूआत के 30 मिनट आप निःशुल्क सुविधा का लाभ उठा सकते हैं। 
( 19 OCT 2015) 


- vidyutp@gmail.com

( PUDUCHERRY, BEACH, AURBINDO ASHRAM, BAPU, AMBEDKAR )


1 comment:

  1. पुडुचेरी में बने इस मरीन ड्राइव की लंबाई करीब 1.25 किलोमीटर है। इस चौडे पथ पर वाहन प्रतिबंधित हैं. ..
    ...वाहनों की आवाजाही से खुलकर घूमना फिरना नहीं होता है, इसलिए यह बहुत ही अच्छी बात है ....
    बढ़िया संस्मरण ..

    ReplyDelete