Thursday, September 24, 2015

तेरे नाम पे सबको नाज है, उसका नाम गरीब नवाज है...

1998 के वसंत में पहली बार अजमेर की यात्रा पर गया था। जयपुर के बाद बस से अजमेर। फिर पुष्कर। एक बार फिर 2008 के मार्च में अनादि और माधवी के साथ अजमेर जाना हुआ। आज इच्छा हुई ख्वाजा को याद किया जाए। 

 अजमेर शरीफ में महान सूफी संत ख्वाजा मोइनुद्दीन चिश्ती की दरगाह है।  ख्वाजा पर हर धर्म के लोगों का विश्वास है। यहां आने वाले जायरीन चाहे वे किसी भी मजहब के क्यों न हों, ख्वाजा के दर पर दस्तक देने कहा जाता है कि उनकी मुरादें पूरी होती हैं। 
अजमेर शहर में तारागढ़ पहाड़ी की तलहटी में स्थित ख्वाजा मोईनुद्दीन चिश्ती की दरगाह शरीफ वास्तुकला की दृष्टि से भी अभूतपूर्व है। यहां ईरानी और हिन्दुस्तानी वास्तुकला का सुंदर संगम दिखता है। दरगाह का निर्माण हुमायूं के शासनकाल में हुआ था।

प्रवेश द्वार के निकट मस्जिद का निर्माण अकबर के शासनकाल में हुआ था तथा मजार के ऊपर की आकर्षक गुंबद शाहजहां के शासनकाल में निर्मित की गई। माना जाता है कि दरगाह को पक्का करवाने का काम गयासुद्दीन खिलजी ने करवाया था। दरगाह के अंदर बेहतरीन नक्काशी किया हुआ एक चांदी का कटघरा है। इस कटघरे के अंदर ख्वाजा साहब की मज़ार है। यह कटघरा जयपुर के महाराजा राजा जयसिंह ने बनवाया था। दरगाह में एक सुंदर महफिलखाना तथा कई दरवाजे हैं, जहां कव्वाल ख्वाजा की शान में कव्वाली गाते हैं।

भारत का मक्का -  इसलाम धर्म के लोगों के लिए मक्का के बाद सबसे बड़े तीर्थस्थल के रूप में ख्वाजा साहब या ख्वाजा शरीफ अजमेर का दूसरा स्थान है। लिहाजा यह भारत का मक्का कहलाता है। भारत में दरगाह अजमेर शरीफ ऐसा पाक स्थल है, जिसका नाम सुनते ही जायरीनों को रूहानी सुकून मिल जाता है। ख्वाजा की पूरी जिंदगी इनसानियत, खासकर गरीबों की भलाई को समर्पित रही, गरीबों के प्रति दया, करुणा व समर्पण भाव रखने से वह गरीब नवाज कहलाए। कहा जाता है कि ख्वाजा हर दुआ कुबूल करते हैं।

ईरान निवासी थे ख्वाजा : ख्वाजा मोइनुद्दीन चिश्ती ईरान के निवासी थे। उनका जन्म 18 अप्रैल 1143 ( 537 हिजरी) में ईरान के सीस्तान कसबे के संजर गांव में माना जाता है। इनके वालिद सय्यद गयासुद्दीन थे और वालिदा का नाम सय्यदा बीबी उमु वरा माहे नूर था। बाद में उनके माता-पिता इसहाक शामी हेरात के पास चिश्त नामक स्थान पर बस गए। ख्वाजा के नाम में चिश्ती लफ्ज़ यहीं से जुड़ा। ख्वाजा के उस्ताद (गुरु) उस्माने हारुनी पीर थे। उस्ताद की खिदमत के दौरान ख्वाजा ने सीखा कि मुफलिसों के लिए मन में प्रेम-स्नेह रखो। बुरे कामों से दूर रहो। गर्दिश में भी इरादे फौलादी रखो। उस्ताद के संदेशों का ख्वाजा ने घूम-घूम कर प्रचार किया। अजमेर में ख्वाजा का आगमन 1195 ईसा बाद माना जाता है। कहते हैं, मुगल बादशाह अकबर ने भी संतान पाने के लिए ख्वाजा की दरगाह पर सजदा किया था.
 अजमेर शरीफ में मजार : चिश्ती के दुनिया से रुखसत का दिन 11 मार्च 1233 रजब 633 हिजरी माना जाता है. कहते हैं कि रोज़ की तरह एक रात गरीब नवाज ख्वाजा अल्लाह की इबादत को अपने कमरे में गये और जब वह पांच दिन तक बाहर नहीं निकले, तब उनके अनुयायियों ने अगले दिन कमरा खोला, तो देखा ख्वाजा यह दुनिया छोड़ चुके हैं। उन्हें उसी कमरे में सुपुर्द-ए-ख़ाक कर दिया गया। यह मज़ार वहीं बना है।

एक दिन के बादशाह की मजार - यहां बादशाह औरंगजेब द्वारा अपने हाथ से लिखी गई कुरान सुरक्षित है। बेगमी दालान से पूरब दिशा में भिश्ती का मजार है। यह मकबरा उसी एक दिन के बादशाह भिश्ती का है जिसने चौसा के युद्ध के दौरान नदी में डूब रहे हुमायूं की जान बचाई थी। 

राजस्थान के अजमेर शरीफ में हजरत ख्वाजा मोईनुद्दीन चिश्ती रहमतुल्ला अलैह की मजार पर हर साल उर्स लगता है। उर्स इस्लामी कैलेंडर के अनुसार रजब माह में पहली से छठी तारीख तक मनाया जाता है।छठी तारीख को ख्वाजा साहब की पुण्यतिथि मनाई जाती है। उर्स के दिनों में महफिलखाने में देश भर से आए कव्वाल अपनी कव्वालियां गाते हैं।मान्यता है कि यदि जायरीन यहां आने से पहले हजरत निज़ामुद्दीन औलिया, दिल्ली के दरबार में हाजरी लगाता है तो उसकी मुराद यहां सौ फीसदी पूरी होती है।

कैसे पहुंचे - अजमेर शहर राजस्थान की राजधानी जयपुर से तीन घंटे का रास्ता है।  दूरी 140 किलोमीटर के करीब है। जयपुर से नियमित बस और रेल सेवा है। आप अजमेर में रहकर ख्वाजा की दरगाह के अलावा ढाई दिन का झोपड़ा और पुष्कर घूम सकते हैं। रेलवे स्टेशन से पैदल चलकर दरगाह शरीफ पहुंचा जा सकता है। दरगाह का रास्ता संकरी गलियों से होकर जाता है। दिल्ली से अजमेर के लिए आठ दैनिक ट्रेने हैं , इसके अलावा कई ट्रेनें अलग अलग दिनों भी चलती हैं। 12015 अजमेर शताब्दी एक्सप्रेस रोज सुबह 6.05 बजे चलती है जो दोपहर एक बजे के करीब अजमेर पहुंचा देती है। ज्यादा जानकारी के लिए देखें – www.erail.in
- vidyutp@gmail.com


( KHWAJA, CHISHTI, DARGAH, PUSHKAR, BARHMA TEMPLE, AJMER, RAJSTHAN ) 

No comments:

Post a Comment