Sunday, August 30, 2015

केवलादेव – चलो परिंदों की जुबां समझें

अगर आप प्रकृति और पशु पक्षियों से प्रेम करते हैं तो आपके लिए घूमने के लिए केवलादेव नेशनल पार्क शानदार जगह हो सकती है। राजस्थान के भरतपुर शहर के बाहरी इलाके में स्थित इस पार्क को घाना पक्षी उद्यान भी कहते हैं। घाना इसलिए कि कभी यहां घने जंगल हुआ करते थे। केवलादेव को संयुक्त राष्ट्र विश्व धरोहर स्थल का दर्जा मिला हुआ है। पक्षी उद्यान 27 वर्ग किलोमीटर में फैला हुआ है। कभी यहां घना जंगल हुआ करता था। 1964 में यहां शिकार पर रोक लगी। 1982 में इसे राष्ट्रीय पक्षी उद्यान का दर्जा मिला। 1985 में यह विश्व धरोहर की सूची में शामिल हुआ। आजकल यहां 200 प्रजाति के पक्षी देखे जा सकते हैं।

इससे पहले यह कई सदी का राजाओं की शिकारगाह हुआ करती थी। भरतपुर के महाराजा ही नहीं बल्कि उनके आमंत्रण पर आसपास के कई राजा ब्रिटिश अधिकारी यहां शिकार करने आते थे। गवर्नर जनरल लार्ड कर्जन समेत कई गवर्नर भी यहां शिकार कर चुके हैं। पार्क के अंदर सभी शिकार करने वालों की सूची लगाई गई है। कर्जन ने 1902 में और 1907 में यहां शिकार किया था। पर 1964 से यहां शिकार बंद हो गया। इस पूरे क्षेत्र को पक्षियों के लिए संरक्षित कर दिया गया। इसमें भरतपुर के राज परिवार की भूमिका महत्वपूर्ण रही। इस पार्क का नाम पार्क के बीचोंबीच स्थित भगवान शिव के मंदिर केवलादेव के नाम पर है।

पिछले चार साल केवलादेव में पानी की कमी थी। पर अब यहां गोवर्धन से पानी लिया गया है। पार्क एक बार फिर पक्षियों से गुलजार है। अगर आप केवलादेव घूमने जाना चाहते हैं तो इसके लिए अगस्त से मार्च तक का महीना बेहतर है। नवंबर से फरवरी तक का महीना सबसे बेहतर है।

प्रवेश टिकट - पार्क में प्रवेश टिकट 75 रुपये का है। यह दर भारतीय व्यस्क के लिए है। बच्चों के लिए दर कम है। विदेशियों के लिए और भी ज्यादा है। पार्क सुबह 6 बजे से शाम को अंधेरा होने तक खुला रहता है। पार्क के बाहर बस, कार और बाइक के लिए पार्किंग उपलब्ध है। प्रवेश टिकट घर के पास से आप पक्षियों पर पुस्तकें पार्क की स्मृति में बनी टोपियां, टी शर्ट, जैकेट आदि भी खरीद सकते हैं। ये सब वाजिब दाम पर हैं। इस उद्यान का प्रबंधन राजस्थान सरकार का वन विभाग करता है।  

कैसे घूमें – पार्क घूमाने के लिए साइकिल रिक्सा उपलब्ध है। कुल 140 रिक्सा वाले हैं। उनकी दरें 100 रुपये प्रतिघंटा है। कम से कम 4 घंटे का समय तो रखे हीं। रिक्शा वाले आपको दूरबीन भी देते हैं। बिना दूरबीन के पक्षी बेहतर तरीके से नहीं देख सकते। दो घोड़ागाड़ी और कुछ बैटरी रिक्शा भी पार्क में चलते हैं। आप 40 रुपये में साइकिल भी किराए पर ले सकते हैं। 

कैसे पहुंचे - केवलादेव नेशनल पार्क भरतपुर में आगरा हाईवे पर स्थित है। दिल्ली से तकरीबन 180 किलोमीटर की दूरी पर है भरतपुर। मथुरा और आगरा से इसकी दूरी 55 किलोमीटर है। अगर अपनी गाड़ी से हैं और आप आगरा में हैं तो फतेहपुर सीकरी घूमने के बाद भरतपुर जा सकते हैं। फतेहपुर सीकरी से भरतपुर की दूरी महज 22 किलोमीटर है।


आप अपना टूर प्लान मथुरा वृंदावन, आगरा और भरतपुर का बना सकते हैं। दिल्ली से आप भरतपुर ट्रेन या बस से जा सकते हैं। रास्ता 4 घंटे का है। बस से जाना हो तो मेट्रो रेल से फरीबाद के एस्कार्ट मुजेसर मेट्रो तक जाएं वहां से आगरा जाने वाली बस लें। मथुरा में भरतपुर बाईपास पर उतर कर भरतपुर की बस ले लें। आप भरतपुर के साथ डीग महल, गोवर्धन आदि का भी कार्यक्रम बना सकते हैं।
( KEOLADEO NATIONAL PARK, BIRDS, WATER, BHARATPUR, RJASTHAN, CRANE)

( केवलादेव  राष्ट्रीय पक्षी उद्यान - 1)  REMEMBER IT IS A WORLD HERITAGE SITE LISTED IN 1985.  


No comments:

Post a Comment