Monday, June 29, 2015

बापू ने डाली थी बुनियादी शिक्षा की नींव

बेतिया शहर के पास कुमारबाग के पास है वृंदावन आश्रम। यह वही आश्रम है, जहां बापू पंडित प्रजापति मिश्र, गुलाब खां व पीर मुहम्मद मुनिस के द्वारा निमंत्रण पर गांधी सेवा संघ के पंचम अधिवेशन के के मौके पर 2 मई, 1939 को एक बार फिर चंपारण की धरती पर पहुंचे थे। इसी वृंदावन में बनी कुटिया में 9 मई, 1939 तक रहकर जनता को प्रेरित किया था। इसी दौरान बापू ने स्वावलंबन आधारित शिक्षा की नींव रखी, जिसके तहत 4 मई 1939 को बुनियादी शिक्षा की शुरुआत हुई।

उद्योग विकास और रोजगारपरक शिक्षा के लिए बिहार में 29 बुनियादी विद्यालयों की शुरुआत बड़े ही जोर शोर से की गई थी। ऐसे ही बिहार के एक बुनियादी विद्यालाय कन्हौली (वैशाली) में मैंने स्कूली शिक्षा पाई। मेरे स्कूल का नाम था राजकीय उच्च बुनियादी विद्यालय था। उद्देश्य था कि स्कूल में सिर्फ किताबी ज्ञान न दिया जाए बल्कि ग्रामीण बच्चों को पढ़ाई के साथ कौशल प्रशिक्षण भी दिया जाए जिससे वे बाद में कोई रोजगार कर सकें। इन स्कूलों में कभी सूत कताई और करघा चलाना अनिवार्य तौर पर सिखाया जाता था। ये स्कूल पहली से आठवीं कक्षा तक की पढ़ाई वाले थे। इन स्कूलों को बापू के ग्राम स्वराज्य के सपने के अनुरूप खोला गया था। पर इन स्कूलों का अब नाम पर बुनियादी विद्यालय रह गया है।

1980 से 1983 के दौरान हमारे बुनियादी विद्यालय में बुनियादी शिक्षा बिल्कुल ही बंद हो चुकी थी पर कौशल का प्रशिक्षण देने वाले तमाम यंत्र और इससे जुड़ी हुई पुस्तकें दो बंद कमरों में धूल फांक रहे थे। अब ये स्कूल समान्य स्कूलों की तरह की संचालित किए जा रहे हैं। आज एक बार फिर कौशल विकास की बात जोर शोर हो रही है, पर स्कूली स्तर पर बुनियादी शिक्षा उस कौशल विकास का उत्कृष्ट नमूना था जिसे हम कबसे भूला बैठे हैं।  बिहार में हमारे हाईस्कूल कोर्स में सातवीं से दसवीं क्लास के बीच कार्यानुभव और शैक्षिक परियोजना का एक विषय हुआ करता था। पर इसकी कभी पढ़ाई और परीक्षा नहीं होती थी। हां बोर्ड की परीक्षा में अंक पत्र पर इस विषय का ग्रेड जरूर लिखा जाता था। अक्सर इसमें सबको ए ग्रेड दे दिया जाता था। यह व्यवहारिक शिक्षा के साथ बड़ी धोखाधड़ी थी।

आज मैं बापू के इस बुनियादी शिक्षा को याद करता हूं, तो हमारे काशी हिंदू विश्वविद्यालय के एमए की कक्षा में पढ़ने वाले दो साथी याद आते हैं। यज्ञनाथ झा ने एमए करने के बाद एक नामी बिस्कुट कंपनी में प्रोडक्शन का काम देखना शुरू किया। आज वह उस क्षेत्र में सफल हैं। हमारी एक और मित्र पद्मा ने तो पीएचडी किया पर शिक्षण के क्षेत्र में नहीं गईं, कभी जो उनका शौक था वह रोजगार बन गया। वे इलाहाबाद में कौशल विकास केंद्र चला रही हैं। इससे ये महसूस होता है कि पढ़ाई के साथ कौशल विकास वाली शिक्षा कितनी जरूरी है।

पश्चिम चंपारण के जिला मुख्यालय बेतिया में हजारीमल धर्मशाला वह जगह है जहां बापू भितिहरवा जाने के क्रम में रुके थे। हजारीमल धर्मशाला को बिहार सरकार द्वारा सुरक्षित स्मारक घोषित किया गया है। इसकी रख-रखाव की व्यवस्था कला, संस्कृति एवं युवा (पुरातत्व निदेशालय) विभाग को है। पर इसकी हालत भी अब बदतर बताई जाती है।
vidyutp@gmail.com 

 ( GANDHI, BAPU, CHAMPARAN, BHITIHARWA ASHRAM) 



No comments:

Post a Comment