Wednesday, April 1, 2015

यहां विराजती है दिलकश हरियाली - तीन मूर्ति भवन

दिल्ली का तीन मूर्ति भवन। भारत के पहले प्रधानमंत्री पंडित जवाहर लाल नेहरू का निवास स्थान। नेहरू जी के बाद इसे संग्रहालय और पुस्तकालय में परिणत कर दिया गया है। पंडित नेहरू के द्वारा इस्तेमाल की गई वस्तुएं आज भी यहां देखी जा सकती हैं। यहां आप सुबह 10 बजे से 5 बजे तक जा सकते हैं। चाणक्यापुरी से ठीक पहले स्थित है तीन मूर्ति भवन। इस भवन के चार प्रमुख स्कंध हैं - स्मारक संग्रहालय, आधुनिक भारत से संबंधित पुस्तकालय, समसामयिक अध्ययन केन्द्र और नेहरु तारामण्डल। http://nehrumemorial.nic.in/

तीन मूर्ति भवन का निर्माण 1930 में किया गया था। यहां चौराहे पर तीन मूर्तियां हैं जो एक ब्रिटिश मूर्तिकार लियोनार्ड जेनिंग्स द्वारा निर्मित हैं। ये तीन सैनिकों की खडी मूर्तियां है, उन्हीं के कारण इस भव्य भवन का नाम तीन मूर्ति भवन पड़ गया है। वास्तव में द्वतीय विश्व युद्ध के सैनिकों का स्मारक है। यह इमारत देश आजाद होने से पहले ये मूल भवन भारत में ब्रिटिश सेना के कमांडर-इन-चीफ़ का आवास हुआ करता था, जिसे फ़्लैग-स्टाफ़ हाउस कहते थे। यह ऑस्ट्योर क्लासिक शैली में निर्मित है। 

दिल्ली के लुटियन्स जोन के केंद्र में तीन मूर्ति भवन सबसे खूबसूरत इमारतों में एक है। तीन मूर्ति भवन में 1964 में अपनी मृत्यु के समय तक भारत के प्रथम प्रधानमंत्री जवाहरलाल नेहरू रहे। नेहरू की मौत के बाद ऐसा माना जा रहा था कि अगले प्रधानमंत्री लाल बहादुर शास्त्री इसमें रहने जाएंगे। पर ऐसा नहीं हो सका। उनकी बेटी इंदिरा गांधी का दबाव था कि तीन मूर्ति भवन को नेहरू जी का स्मारक बनाया जाए। इस आशय का एक पत्र भी इंदिरा गांधी ने शास्त्री जी को लिखा था। नेहरू जी की बेटी के तौर पर इंदिरा गांधी ने भी यहां लंबा वक्त गुजारा था।

यहां से नेहरु जी चुनते थे गुलाब – तीन मूर्ति भवन के पीछे सीढ़ीनुमा गुलाब उद्यान है। इसी गुलाब उद्यान से नेहरु जी अपनी शेरवानी का गुलाब चुना करते थे। इस उद्यान की हरियाली देखते ही बनती है। उद्यान में दर्जनों मोर नृत्य करते नजर आते हैं जो बड़ा ही मनभावन लगता है। एक दूरबीन यहां का प्रमुख आकर्षण हैं। तीन मूर्ति भवन का लॉन कई ऐतिहासिक समारोहों का साक्षी रहा है।

तीन मूर्ति भवन में एक कैंटीन भी है। इस कैंटीन को सिर्फ महिलाएं ही चलाती हैं। केंद्रीय दिल्ली में इससे सस्ता खाना और नास्ता आपको कहीं नहीं मिल सकता। कैंटीन के अंदर और बाहर बैठने का इंतजाम है। बाहर बैठते हैं तो आसपास हरियाली दिखाई देती है। जहां बैठकर चाय की चुस्की लेना काफी सुखकर लगता है।

नेहरू तारामंडल – तीन मूर्ति भवन परिसर में बच्चों के लिए तारा मंडल बना है। ये तारामंडल इंदिरा गांधी के प्रधानमंत्री रहने के दौरान बनाया गया। नेहरू जी के जमाने में इस जगह पर टेनिस कोर्ट हुआ करता था जहां राजीव गांधी और संजय गांधी टेनिस खेला करते थे।

कुशक महल- तीन मूर्ति भवन और तारामंडल के बीच एक ऐतिहासिक विरासत दिखाई दे जाती है कुशक महल। कुशक महल वास्तव में कभी शिकारगाह हुआ करता था। इसे फिरोज शाह तुगलक ने 1351 से 1388 के मध्य बनवाया था। मुगल बादशाह यहां रायसीना के जंगलों में शिकार खेलने के लिए आते थे। अब ये प्रेमी प्रेमिकाओं का मिलन स्थल बना हुआ है।





No comments:

Post a Comment